महिलाओं में खतरनाक रोग है यूटरिन फाइब्रॉयड, जानें लक्षण और बचाव

अति व्यस्तता की वजह से आजकल ज्य़ादातर स्त्रियां सेहत के प्रति लापरवाह होती जा रही है। इससे उन्हें कई गंभीर बीमारियों का सामना करना पड़ता है।

  • इसका आकार मटर के दाने जैसा होता है।
  • यह गर्भाशय की मांसपेशियों के बाहरी हिस्से में होता है।
  • जिससे बचाव के लिए स्वस्थ जीवनशैली अपनाना बहुत ज़रूरी है।

क्या है मर्ज

जब यूट्रस की मांसपेशियों का असामान्य रूप से अतिरिक्त विकास होने लगता है तो उसे फाइब्रॉयड कहा जाता है। इसका आकार मटर के दाने से लेकर क्रिकेट की बॉल से भी बड़ा हो सकता है। जब यह गर्भाशय की मांसपेशियों के बाहरी हिस्से में होता है तो इसे सबसेरस कहा जाता है और अगर यह यूट्रस के भीतरी हिस्से में भी होता है तो ऐसे फाइब्रॉयड को सबम्यूकस कहा जाता है। अगर फाइब्रॉयड का आकार छोटा हो और उसकी वजह से मरीज़ को कोई तकलीफ न हो या उसे गर्भधारण करने की ज़रूरत न हो तो उसके लिए उपचार की कोई आवश्यकता नहीं होती। आनुवंशिकता, मोटापा, एस्ट्रोजेन हॉर्मोन का बढऩा और लंबे समय तक संतान न होना आदि इसके प्रमुख कारण हैं।

लक्षण

  • विवाह के कुछ वर्षों के बाद तक कंसीव न कर पाना
  • पीरियड्स के दौरान दर्द के साथ ज्य़ादा ब्लीडिंग और मासिक चक्र का अनियमित होना, पेट के निचले हिस्से या कमर में दर्द और भारीपन महसूस होना
  • अगर फाइब्रॉयड यूट्रस के अगले हिस्से में हो या उसका आकार ज्य़ादा बड़ा हो तो इससे यूरिन के ब्लैडर पर दबाव पड़ता है और बार-बार टॉयलेट जाने की ज़रूरत महसूस होती है।
  • इस बीमारी में पीरियड्स के दौरान हेवी ब्लीडिंग होने की वजह से कई बार मरीज़ में एनीमिया के भी लक्षण देखने को मिलते हैं।

यूटरिन फाइब्रॉयड से बचाव

  • अगर परिवार में इस बीमारी की केस हिस्ट्री रही हो तो हर छह माह के अंतराल पर एक बार पेल्विक अल्ट्रासाउंड ज़रूर कराएं।
  • संतुलित खानपान अपनाएं।
  • नियमित एक्सरसाइज़ करें और अपना वज़न ज्य़ादा न बढऩे दें, क्योंकि मोटापे की वजह से शरीर में एस्ट्रोजेन हॉर्मोन का सिक्रीशन काफी बढ़ जाता है, जो कि इस बीमारी की प्रमुख वजह है।

उपचार

पहले ओपन सर्जरी द्वारा इस बीमारी का उपचार होता था, जिससे मरीज़ को पूर्णत: स्वस्थ होने में लगभग एक महीने का समय लग जाता था। अब लेप्रोस्कोपी की नई तकनीक के ज़रिये इस बीमारी का कारगर उपचार संभव है, जिसमें ऑपरेशन के अगले ही दिन स्त्री अपने घर वापस जा सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *