हार्ट अटैक

हार्ट अटैक के मरीज को कैसे बचाया जा सकता है ?

जब भी कभी भी कहीं भी आप किसी व्यक्ति को सीने मे दर्द के साथ गिरते हुए देखे तो आपको दो स्थिति देखने को मिल सकती हैं।
पहली स्थिति बुरी स्थिति
दूसरी स्थिति ज्यादा बुरी स्थिति

पहली स्थिति मे हो सकता हैं की मरीज दर्द के साथ कराह रहा हैं और गिर पड़ा हैं। आप तुरंत उस मरीज के पास जाए, मरीज ये शिकायत कर सकता हैं कि मुझे सीने मे बहुत तेज दर्द हो रहा हैं और जो दर्द हैं वो सीने से होता हुआ हाथ की तरफ आ रहा हैं। साथ ही मरीज को उस समय घबराहट और जी मिचलाना जैसी समस्या हो सकती हैं।

  1. इस स्थिति मे सबसे पहले आप मरीज को आरामदायक स्थिति मे लेटाये।
  2. उसके बाद 108 पर काँल करें ताकि एंबुलेंस जल्द से जल्द वहाँ तक पहुँच सकें।
  3. यदि मरीज कमरे मे है तो उस कमरे की सारी खिड़किया खोल दे।
  4. मरीज को ये विश्वास दिलाये की आपको कुछ नही होगा सब ठीक हो जायेगा।

दूसरी स्थिति — जिसमे मरीज बेहोस हो चुका हैं। यदि आप उसके पास जायेंगे तो आप देखेगे की न ही उसकी नाड़ी चल रही हैं और नाही साँसे। इस स्थिति को हम कहते हैं — कार्डिक अरेस्ट

कार्डिक अरेस्ट हार्ट अटैक, बिजली के झटके, या अन्य बहुत सी शरीरिक क्रियाओं के कारण हो सकता हैं।
यदि आपको ऐसी स्थिति मे कोई व्यक्ति मिलता हैं तो सबसे पहले आप जो करेगे वो हैं कार्डियो पल्मोनरी रिससिटैशन या सी.पी.आर
यह एक ऐसी तकनीक हैं जिससे कार्डियक अरेस्ट और सांस न ले पाने जैसी आपातकालीन स्थिति में व्यक्ति की जान बचाई जा सकती है।
कार्डियो पल्मोनरी रिससिटैशन की क्रिया को कैसे करते हैं ?

  1. सबसे पहले आप मरीज को सीधा लेटा दें। और अपने गाल को मरीज के मुँह के पास लेजाकर देखें की मरीज की सासे चल रही या नही। अगर नही चल रही तो मरीज को सी.पी.आर की बहुत जरूरत हैं।
  2. मरीज को सी.पी.आर देने के लिए सबसे पहले आप मरीज के पास घुटनों के बल बैठ जाये।
  3. अपनी हथेली को मरीज के सीने के बिचो बीच रखे |
  4. दूसरे हाथ को पहले हाथ के उपर रख कर अगुलियो को इंटरलॉक करें। अपने कंधो को मरीज की छाती की सीध मे रखें और कोहनी को सीधा रखें।
  5. अब जोर लगाते हुए मरीज की छाती को 5 सेंटीमीटर तक दबाना हैं। ऐसा एक मिनट मे 100 से 120 बार करना हैं। दबाते वक्त डरना बिल्कुल भी नही है।
  6. ये प्रोसेस आपको लगातार तब तक करना हैं जब तक मरीज को होस ना आ जाये। या आपके पास मेडिकल एसिटेंट टीम ना आ जाये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *