सन्देश

deputy

भारत एक विशाल देश है l भारत के विकास में जनसंख्या वृद्धि, निरक्षरता बेरोजगारी के साथ-साथ सबसे प्रमुख बाँधा यहाँ के लोगों के लिए प्राथमिक चिकित्सा के प्रबन्ध की समुचित व्यवस्था का उपलब्ध नही होना है l जबकि किसी भी दुर्घटनाग्रस्त या आचनक बीमारी से ग्रस्त व्यक्ति को प्रथम रूप से तुरन्त दिये जाने वाले प्राथमिक उपचार के माध्यम से आकस्मिक होने वाली मौतों एवं तकलीफों को कम किया जा सकता है l
सर्वप्रथम जनरल असमार्च (1823-1908) विख्यात जर्मन शल्य चिकित्सक ने सबसे पहले कल्पना करके प्राथमिक चिकित्सा के विषय में खोज की, उनके अनुसार तुरन्त एवं अस्थायी रूप से मिलने वाली सहायता जो कि एक रोगी को क्षणिक आराम दे सके, जब तक की एक शिक्षित अथवा प्रमाणित डॉक्टर उसका इलाज कर सके, उसको हम प्राथमिक चिकित्सा कहते हैं l
प्राथमिक उपचार करने वाले व्यक्ति का मुख्य कार्य रोगी का जीवन बचाना और कष्ट को कम करने हेतु होता है l प्राथमिक चिकित्सा अपने आप में परिणाम तो नहीं है लेकिन प्राथमिक चिकित्सा से हमें संकेत मिलता है कि पीड़ित व्यक्ति को आगे सम्पूर्ण उपचार की आवश्यकता है या नहीं l
मानव स्वास्थ्य के लिए योग चिकित्सा का अपना एक महत्वपूर्ण स्थान है | योग करने से मनुष्य गम्भीर एवं जटिल बिमारियों के प्रभाव से बच सकता है | योग भारत की प्राचीन चिकित्सा पद्धति है | योग करने से मनुष्य शारीरिक व मानसिक रूप से स्वस्थ रहता है मनुष्य के जीवन में योग का अपना महत्वपूर्ण योगदान है योग के महत्व को देखते हुए संस्था योगा के विभिन्न कोर्स का भी संचालन कर रही है |
संस्था प्राथमिक उपचार (FIRST AID), के साथ-साथ संचारी रोग (CUMMUNICABLE DISEASES), मानव शरीर रचना एवं क्रिया विज्ञान (HUMAN ANATOMY AND PHYSIOLOGY), मनोविज्ञान (PSYCHOLOGY), समाजशास्त्र (SOCIOLOGY), सूक्ष्म जीवविज्ञान (MICROBIOLOGY), कम्प्यूटर फण्डामेंटल (COMPUTER FANDAMENTAL), आहार एवं पोषण (FOOD AND NUTRITION), परिचारिका (NURSING), प्रसुति (MIDWIFERY),परिवार नियोजन (FAMILY PLANNING), टीकाकरण (VACCINATION), एवं योगा (YOGA) आदि के प्रशिक्षण हेतु संस्थान अपने स्वास्थ्य विशेषज्ञों के माध्यम से BSS से सम्बध होकर निम्नलिखित कोर्सों (Courses) का संचालन कर रही है l

Certificate in Anti-Malaria Training- 3 Month
First Aid and Patient Care- 1Year
Female Patient Care Assistant- 1 Year
Diploma in Physician Assistant- 2 Year
Yoga and Naturopathy School

आइये हम सब मिलकर अपने देश को संमृद्ध ,आत्मनिर्भर,शक्तिशली एवं विकसित राष्ट्र के निर्माण में सहयोग कर सहभागी बनें |

Affiliated by – BSS Code-UP/8134

Bharat Sevak Samaj is the National Development Agency, Established in 1952 by Planning Commission, Government of India to ensure public co-operation for implementing Government plans. The main purpose behind the formulation of Bharat Sevak Samaj is to initiate a nation wide, non official and non political organization with the object of enabling individual citizen to contribute, in the form of an organized co-operative effort, to the implementation of the National Development Plan. The constitution and functioning of Bharat Sevak Samaj is approved unanimously by the Indian Parliament.
About BSS

The Bharat Sevak Samaj was promoted by the Plaanning Commission, Government of India, in the background first Five Year Plan in 1952 to provide national platform for contructive work, after the achievement of Independence. Father of the nation Mahatama Gandhi visualized the formation of an organization named as’Look Sevak Sangh’ to take up the programmed of socio-economic reconstruction of the country. The idea was further pursed by two of his gretest stalwarts Prime Minister Pt. Jawahar Lal Nehru and Shri Guljari Lal Nanda, then Minister of planning with tha launching of the planned economic development of nation. The National Advisory Committee of the Planning Commission for public Co-operation concretized the idea after holding consultations with prominent public leaders and lining and leading politicians of all parties. Smt. Indira Gandhi, Shri Shahnawaz Khan one of the closest associates of Netaji Subhash Chandra Bose, Prof. N.R Malkani renowned Gandhian and few other eminent men were the founder members of Bharat Sevak Samaj under whose signatures its constitutions was registerd and the Bharat Sevak Samaj was finally launched on 12th August 1952.

Activities

Pioneering work: The Bharat Sevak Samaj undertook a number of pioneering works such as Vocational Training Institutes, slum service, legal aid to the poor, national consumer service, night shelters for pavement, dwellers, Lok Karya Kshetras for rural development, institutions for handicapped Children, training of voluntary social workers yogic exercises for all, launching of labour co-operatives, food for work programmers, voluntary mobilization of manpower known as shramdan for local development works, inculcating the dignity of labour amongst the students and youth and elimination of middlemens profit in the construction activity. It also sponsored a non political youth organization known as Bharat yuvak Samaj for mobilizing youth power to constructive work. Particular mention of the Bharat Sevak Samaj participation in construction work may be made of Kosi Project in Bihar during 1955-59. The Third Five Year plan document has acknowledged that the Samaj participation brought forth evidence of substantive cost reduction and improvement in the quality of work as well as the speed in execution. Against the original estimate of Rs. 11.5 crores the actual expenditure in the Kosi River embankment project was Rs. 6.5 crores only. It was completed in 1958 against the target of 1960.

Educational Institutions

Many schools for the poor and middle class children are being run to promote health habits and schooling in the children of age group between 3 to 5 years. Full fledged vocational and IT Education programs at different part of the Country to enrich the youth and bring them to the technology and makes them self sufficient to sustain their livelihood.. A number of Girls Institutions, Junior and High Girls Schools have been sponsord to promote women education in country Specialy mention may be made of Jabalpur Girls Higher Secondary School in Madhya Pradesh where fifteen hundred students are admitted for getting education of all road development.After winning the war of independence with a shocking division of our motherland separting Pakistan as another state, Mahatma Gandhi, father of our Nation, was of the opinion that Congress should abandoned as a political party and continue as a social organization, to guide and help the people to development the society through a strong democracy.Pdt. Jawaharlal Nehur, however, convinced Mahatmaji that there is no other well established political party having roots in every nook and corner of the country. So, congress had to shoulder the responsibility of governing our great nation through an established democratic process to all-round development.
As First Prime Minister of Govt. of India, Pdt. Ji Introduced planned economy in our democratic set up through it is a Communist Economy`s domain. To implement plans, funds are needed, which was a Herculean task for our country those days. But NehruJi introduced paved our path stating that we have vast labour resources lying in millions of hands, this hands can dig big canals, channels, tanks, dams for water supply, can build sky scrapers for housing& the like. So why not harness this resource for development of our nation? Hence, the idea of Bharat Sevak Samaj (Hence forth referred to as BSS) as an institution to achieve this purpose appeared in political scenario.

Pdt. Ji called a meeting of all the leaders of political parties and discussed that as political leaders they will be fighting elections which will result in frictions. Hence, group leaders of political parties will not be able to get support of each other in public projects e.g. construction of roads, school buildings, etc. and digging of wells, tanks, etc. which are a must for a agricultural nation as ours, and the like. Hence is the need for a non-political, non-official, non-religious organization for the following:

To propagate the need and importance of Governmets five year plans.
To seek public co-opretion for implementation of govt.plans
To publicize free manual labour in development works & projects so-on & so-forths.
All the parties agreed and great grand organization was founder viz. BHARAT SEVAK SAMAJ.
BSS was promoted by the Planning Commission of Govt. of India. The govt. provided grants for:-
To publicise and propagate govt. five year plans.

To organize camps for students, village youth leader to help some projects. These camps were run in rural as well as urban slum areas and contributed to the ideas of co-operation, abolition of untouchability by living under one roof, patriotism, free manual labour, sports , oratory i.e. an all-round development environment. Thus, they were an important part of Samaj`s activities. They were run while receiving only part grants from Central and several State governments.
Lok Karya Kshetra:-

BSS whole time workers had to select an area of ten to twelve villages and try develop the region with good transportation facilities, mainland connections via roads, etc., harness water resources, Balwadies (i.e.Montesary School), small libraries, (maternity centres etc. all with help and contribution of villagers.Night Shelters: It is remarkable scheme for workers wthout a roof after whole day works–outs. BSS used to have a hall with basic civic amenties and blankets, etc. with some educational magazines etc., where labourers or strangers could stay overnight on contribution of one or two rupees only.

Family Planning: As some religious are against family planning it is very tough to convince public on the issue, the labour class too, do not co-operate. But BSS organizers were running family planning work camps quite successfully in the remote areas of villages. BSS was organizing many health centres too.Apart from this Bharat Sevak`s always came forward to keep the morale high of Jawan Brethem on the border when there was a war with China & Pakistan. In Tejpur at one time there was only BSS flag flying high.BSS also helped drought flood, famine, earthquake etc. effected areas as well.In the year 1960 Pdt. Ji wanted BSS to be self sufficient and hence BSS Construction Services came into existence. BSS has completed kosi dam project without foreign exchange and within a short period. Thus through its construction activity BSS saved many crores of rupees for public exchequer which otherwise could not be saved.

सामुदायिक संसाधन
(Community Resources)

राष्ट्रीय स्वैच्छिक एजेन्सी (Nation Voluntary Agenciees)

1.Indian Red Cross Society (IRCS)
2. T.B. Association in India
3. Bharat Sevak Samaj (BSS)
4. Hind Kusht Nivaran Sangh (HKNS)
5. Kasturba Memorial Fund
6. Central Social Welfare Fund (CSWF)
7. Family Planning Association of India (FPAI)
8. All India Blind Relief Society
9. All India Women’s Conference (AIWC)
10. Indian Council for Child Welfare (ICCW)
11. Saint John Ambulance Association

1. इंडियन रेड क्रास सोसाइटी [Indian Red Cross Society (IRCS)]

भारतीय रेड क्रास की स्थापना 1920 में हुई | इसका मुख्यालय भारत में नई दिल्ली में है | इसकी शाखाएँ पूरे देश में कार्य करती है |
सोसाइटी द्वारा मिलिट्री अस्पताल स्थापित किये गये है | जिसके अन्तर्गत मातृक एवं बाल स्वास्थ्य कल्याण, परिवार कल्याण, सामुदायिक स्वास्थ्य सेवाएँ, स्वैच्छिक रक्तदान, एम्बुलेन्स सहायता व नर्सिंग सेवाएँ उपलब्ध कराना है |
रेडक्रास द्वारा महामारी, बाढ़, सुनामी, चक्रवात, अकाल, सुखा एवं अन्य प्राकृतिक आपदा में सहायता करना है |
• उद्देश्य (Purpose):-
– स्वास्थ्य की उन्नति करना |
– बीमारी को दूर करना |
– बिमारो की सेवा करना |
• कार्य (Function):-
1. महाविपत्ति, भूकंप, अकाल, बाढ़ एवं प्राकृतिक आपदाओं में सहायता करना | जैसे- कपड़ों की व्यवस्था एवं भोजन का वितरण करना |
2. अस्पतालों में दूध एवं दावइयों की सेवाएं प्रदान करना |
3. मातृक एवं बाल स्वास्थ्य कल्याण की सेवाएँ प्रदान करना |
4. परिवार कल्याण की सेवाएँ उपलब्ध करना |
5. Blood Bank एवं प्राथमिक सहायता की सेवाएँ प्रदान करना |
2. भारतीय तपेदिक एसोसिएशन [T.B. Association in India]
इसकी स्थापना 1993 में हुई | भारत में इसकी कई शाखाएँ है | इसका मुख्यालय दिल्ली में है | यह क्षय रोग विरोधी कार्यक्रमो तथा स्वास्थ्य शिक्षा को बढ़ावा देने हेतु चिकित्सक, नर्स, हेल्थ विजिटर और अन्य स्वास्थ्य कार्यकर्ताओ को प्रशिक्षित करता है |
• कार्य (Function):-
1. क्षयरोग विरोधी कार्यक्रमों को बढ़ावा देना |
2. क्षयरोग से संबंधी स्वास्थ्य शिक्षा को बढ़ावा देना |
3. एसोसिएशन के द्वारा धनसंग्रहण हेतु अभियान चलाया जाता है |
3. भारत सेवक समाज [Bharat Sevak Samaj (BSS)]
इसका गठन 1952 में किया गया | यह एक गैर राजनीतिक, गैर सरकारी, स्वायत्तशासी संगठन है | भारत सेवक समाज की सभी राज्यों तथा लगभग सभी जिलो में शाखाएँ कार्यरत है |
• उद्देश्य (Purpose):-
1. व्यक्तियो के अपने स्वयं के प्रयासो से स्वास्थ्य प्राप्ति में सहायता प्रदान करता है |
2. ग्रामीण क्षेत्रों में पर्यावरणीय स्वच्छता में सुधार लाना |
4. हिन्द कुष्ठ निवारण संघ [Hind Kusht Nivaran Sangh]
इसकी स्थापना 1950 में हुई थी | समस्त भारत में संघ की शाखाएँ जो कि अन्य स्वैच्छिक तथा सरकारी संगठनो के सहयोग से कुष्ट निवारण हेतु सक्रिय है | इसका मुख्यालय दिल्ली में है | “Leprosy In India” नामक त्रैमासिक पत्रिका प्रकाशन मुख्य है |
• कार्य (Function):-
1. विभिन्न कुष्ट घरो (Leprosy Home) एवं क्लिनिको को सहायता प्रदान करना |
2. प्रचार एवं प्रकाशनो द्वारा स्वास्थ्य शिक्षण प्रदान करना |
3. स्वास्थ्य कार्यकर्ताओ को प्रशिक्षण देना |
4. कुष्ठ कार्यकर्ताओ के सम्मेलन का आयोजन करना |
5. कस्तूरबा स्मारक निधि [Kasturba Memorial Fund]
इसका गठन सन् 1944 में कस्तूरबा गांधी की स्मृति में, उनकी मृत्यु के पश्चात् किया गया | स्मारक निधि का उपयोग नारी कल्याण को कई परियोजनाओ के लिये किया जाता है | इसकी सहायता से गाँवो में ग्राम सेविकाओ के माध्यम से भारतीय नारियो का स्तर ऊँचा उठाने का प्रयास किया जाता है |
6. केन्द्रीय समाज कल्याण मंडल [Central social welfare fund (CSWF)]
इसका गठन भारत सरकार द्वारा सन् 1953 में किया गया | यह एक अर्द्ध सरकारी, स्वायत्तशासी संगठन है | 1968 से मंडल ने परिवार एवं बाल कल्याण सेवाएँ प्रारंभ की है | मंडल, क्राफ्ट प्रशिक्षण, दुग्ध वितरण, बालगाड़ी, शैक्षणिक निभाता है |
• कार्य (Function):-
1. स्वैच्छिक कल्याणकारी संगठनो की आवश्यकताओ एवं महत्व का पता लगाना |
2. स्वैच्छिक समाज कल्याण संगठनो के निर्माण तथा उन्नति को बढ़ावा देना |
3. योग्य संगठनो एवं संस्थाओ को वित्तीय सहायता प्रदान करना |
7. भारतीय परिवार नियोजन संघ [Family Planning Association of India (FPAI)]
परिवार नियोजन संघ की स्थापना 1949 में हुआ | इसका मुख्यालय मुंबई है | इसके अन्तर्गत परिवार नियोजन कार्यक्रमो हेतु, नर्सेज और सामाजिक कार्यकर्ताओ को प्रशिक्षण दिया जाता है | एसोसिएशन की शाखाएँ समस्त भारत में कार्यरत है | सरकार से प्राप्त सहायता से पूरे देश में परिवार नियोजन संबंधी कार्यों को बढ़ावा देना |
8. ऑल इंडिया ब्लाइंड रिलीफ सोसाइटी [All India Blind Relief Society]
इसकी स्थापना सन् 1946 में हुई | नेत्रहीन व्यक्तियो के लिये कार्यरत विभिन्न संस्थाओ में समन्वयन के उद्देश्य से की गई |
• कार्य (Function):-
1. नेत्रहीनों को सामाजिक आर्थिक राहत प्रदान करना |
2. अंधता निवारण के अन्य कार्यों में सहयोग प्रदान करना |
9. अखिल भारतीय महिला सम्मलेन [All India Women’s Conference (AIWC)]
इसकी स्थापना 1962 में हुई है | यह महिलाओ का स्वैच्छिक संगठन है | यह प्रौढ़ शिक्षा तथा दुग्ध केन्द्रों की व्यवस्था भी करती है |
• कार्य (Function):-
1. मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य क्लिनिक का संचालन करना |
2. स्तनपान को प्रोत्साहन देना |
3. चिकित्सा केन्द्र और परिवार नियोजन क्लिनिको के संचालन में विशेष योगदान देती है |
4. प्रौढ़ शिक्षा तथा दुग्ध केन्द्रो की व्यवस्था करना |
10. भारतीय बाल कल्याण परिषद [Indian Council for Child Welfare (ICCW)]
भारतीय बाल कल्याण परिषद की स्थापना 1952 में हुई | यह बच्चो के शारीरिक, सामाजिक एवं मानसिक स्वास्थ्य की उन्नति को सुनिश्चित करने का प्रयास करती है |
इसका मुख्य उद्देश्य कानून अथवा किसी भी अन्य माध्यम से बच्चो के विकास के अवसरो तथा सुविधाओ को बढ़ाना |
11. सेन्ट जॉन एम्बुलेंस एसोसिएशन [Saint John Ambulance Association]
इसका मुख्यालय दिल्ली में स्थित है | यह संघ आपातकालीन परिस्थितियो के अलावा सार्वजानिक उत्सवो, मेलो, कारखानो एवं अन्य स्थानो पर प्राथमिक उपचार सेवाएँ प्रदान करता है | सेंट जॉन एम्बुलेंस में 52000 से ज्यादा प्रशिक्षित कर्मचारी है | इस संस्थान का मुख्य उद्देश्य बीमार एवं घायलो की सेवा करना तथा जनसेवा हेतु प्राथमिक उपचार करने वालो की एक सेना तैयार करना है |

इंटरनेशनल स्वैच्छिक एजेन्सी [International Voluntary Agencies]

1. World Health Organization (WHO)
2. UNFPA (United Nation Fund for Population Activity)
3. UNDP (United Nation Development Programme)
4. World Bank
5. FAO (Food and aggricultural Organization)
6. UNICEF (United Nations International Childrens Emergency Fund)
7. DANIDA (Danish International Development Agency)
8. EC (European Commission)
9. International Red Cross
10. Colombo Plan
11. USAID (United States Agency for International Development)
12. UNESCO (United Nation Education, Scientific and Cultural Organization)
13. ILO (International Labour Organization)
14. CARE (Co-Operative for American Relief Everywhere)
15. Rockfeller Foundation
16. Ford Foundation

1.विश्व स्वास्थ्य संगठन [World Health Organization (WHO)]

विश्व स्वास्थ्य संगठन, संयुक्त राष्ट्र की गैर राजनैतिक इंटरनेशनल स्वास्थ्य एजेंसी है | इसक मुख्यालय (हेडक्वार्टर) जिनेवा में है | यह दिन विश्व स्वास्थ्य दिवस के रूप में मनाया जाता है एवं यह दिवस 7 अप्रैल को मनाया जाता है |
• उद्देश्य (Pupose):-
1. स्वास्थ्य के उच्चतम स्तर को प्राप्त करना |
2. स्वास्थ्य की उन्नति करना |
• कार्य (Function):-
1. पूरे विश्व में स्वास्थ्य कार्यक्रमों को निर्देशित व संचालित करता है |
2. संक्रामक रोगो से बचाव एवं नियंत्रण |
3. पर्यावरण स्वास्थ्य में वृद्धि करना |
4. जैव चिकित्सीय अनुसंधान कार्यों को बढ़ावा देना |
5. पूरे विश्व को केन्द्रीय तकनिकी सेवाएँ प्रदान करना |
• क्षेत्रीय संगठन (Regional organization):-
विश्व स्वास्थ्य संगठन के 6 क्षेत्रीय संगठन है-
1. अफ्रीका
2. पश्चिम प्रांत
3. यूरोप
4. मध्य पूर्व
5. अमेरिका
6. दक्षिण पूर्व एशिया |
• गतिविधियां (Activities):-
1. स्वास्थ्य प्रयोगशाला सेवाएँ
2. मलेरिया उन्मूलन
3. टीको का उत्पादन
4. प्रजनन एवं बालस्वास्थ्य
5. चिकित्सीय पुर्नवास
6. क्षय रोग एवं संक्रमण रोग नियंत्रण
7. चिकित्साएवं नर्सिंग शिक्षा में सहायता इत्यादि |
8. औषधि गुणवत्ता नियंत्रण |
2. संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या गतिविधि कोष [United Nations fund for population activities (UNFPA)]
संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या गतिविधि कोष, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण प्रोग्राम को वित्तीय सहायता देता है | राष्ट्रीय स्तर पर परिवार कल्याण सेवाएँ ग्रामीण क्षेत्रों में उपलब्ध करवाता है | यह कोष सन् 1974 से भारत को अपनी सेवाएँ दे रहा है |
• गतिविधियां (Activities):-
1. गर्भनिरोधक साधनो के निर्माण में सहायता देना |
2. जनसंख्या शिक्षा कार्यक्रमों को बढ़ावा देना |
3. मातृ, शिशु एवं परिवार नियोजन में नविन आविष्कारो तथा विधियो को प्रोत्साहन देना |
4. प्रबंधन कार्यक्रमों को मजबूत करना |
5. संगठित क्षेत्र की परियोजनाओ का संचालन करना |
3. संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (United Nations Development Programme (UNDP)]
संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम की स्थापना गरीब राष्ट्रों के मानवीय एवं प्राकृतिक संसाधनों के विकास में सहायता प्रदान करने के उद्देश्य से सन् 1966 में की गई यह तकनिकी सहयोग हेतु आर्थिक साधनों का मुख्य स्रोत है संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम की परियोजनाए आर्थिक एवं सामाजिक क्षेत्रो जैसे कृषि, उद्द्योग, विज्ञानं, स्वास्थ्य हॉस्पिटल प्रबंधन, नर्सिंग सेवाए एवं प्रशिक्षण तथा सामाजिक कल्याण आदि को सम्मिलित करती है तथा आवश्यक सहायता प्रदत्त करती है, सयुक्त राष्ट्र के सदस्य देश वार्षिक बैठक में मिलकर इस कार्यक्रम के बजट हेतु अंशदान करते है |
4. विश्व बैंक (World Bank)
विश्व बैंक संयुक्त राष्ट्र की विशेष एजेंसी है | इसका मुख्य उद्देश्य गरीब व कम विकसित देशों में जीवन स्तर को ऊँचा उठाने में सहायता प्रदान करना है | बैंक आर्थिक उन्नति की परियोजनाओ हेतु वित्तीय सहायता प्रदान करता है | विश्व बैंक निम्न प्रोजेक्ट में सहायता प्रदान करता है यातायात, रेलवे, कृषि, शिक्षा, परिवार नियोजन एवं स्वास्थ्य प्रोग्राम आदि |
5. खाद्य एवं कृषि संगठन [Food and Agriculture organization (FAO)]
इसकी स्थापना सन् 1945 में हुई | इसका मुख्यालय रोम में है | खाद्य एवं कृषि संगठन बढाती हुई जनसंख्या का सामना करने के लिए, खाद्यानो के उत्पादन में वृद्धि से विशेष सरोकार रखता है | विश्व स्वास्थ्य संगठन एवं खाद्य एवं कृषि संगठन ने मिलकर एक विशेष कमेटी बनाई है जिसमें कई सहयोगात्मक गतिविधियाँ की गई जैसे पोषण सर्वे, प्रशिक्षण कोर्स, सेमिनार एवं अनुसंधान प्रोग्राम को बढ़ावा दिया गया |
• उद्देश्य (Purpose):-
1. सभी देशों के पोषण स्तर में सुधार करना |
2. कृषि व्यवसाय में वृद्धि करना |
3. राष्ट्र के लोगो के जीवन स्तर में बढ़ोतरी करना |
4. ग्रामीण जनसंख्या की स्थितियो को सुधारना |
6. यूनिसेफ (UNICEF) [United Nations International Childrens Emergency Fund]
यूनिसेफ संयुक्त राष्ट्र की एक विशेष एजेंसी है | इसकी स्थापना 1946 में हुई | यूनिसेफ का एक क्षेत्रीय कार्यालय दिल्ली में है जिसे SCAR (South Central Asian Region) कहते है | यूनिसेफ का मुख्यालय (Headquarter) न्यूयार्क (Newyark) में है | 1953 में आपात कार्यों की समाप्ति के बाद इसे संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (United Nations Children Fund) नाम दिया गया |
सन् 1976 से यूनिसेफ शहरी आधारभूत सेवाओ में अपना योगदान कर रहा है | जिसमें स्वास्थ्य, पोषण, जलापूर्ति में वृद्धि, महिलाओ एवं बच्चो के शैक्षणिक कार्यक्रम आदि शामिल है |
इसी प्रकार यूनिसेफ ने बाल स्वास्थ्य को प्रोत्साहित करने हेतु गोबी (GOBI) नामक रणनीति बनाई है |
G- Growth Chart
O- Oral Rehydration
B- Breast Feeding
I- Immunization
• उद्देश्य (Purpose):-
1. माता एवं बच्चो के स्वास्थ्य को बढ़ाना |
2. बाल विकास वृद्धि करना |
3. बच्चो की आवश्यकताओ की पूर्ति करना |
• कार्य (Function):-
1. प्रतिरक्षण
2. शिशु आहार में वृद्धि
3. बाल विकास वृद्धि की माँनिटरिंग
4. अतिसार प्रबंधन
5. पेयजल, पर्यावरण एवं स्वच्छता में वृद्धि
6. बालिका शिक्षा एवं महिलाओ की आय में वृद्धि
• भारत में यूनिसेफ (UNICEF in India):-
यूनिसेफ भारत में निम्न क्षेत्रो में सहायता प्रदान करता है |
1. स्वास्थ्य (Health):-
 संक्रामक रोगों का नियंत्रण
 टीकाकरण कार्यक्रम
 चिकित्सा एवं शिक्षा प्रशिक्षण
 ग्रामीण स्वास्थ्य सेवाओ को मदद करना
2. शिक्षा (Education):-
 साइंस टेक्नोलॉजी का विकास करना
 विज्ञान के उपकरणों में वृद्धि करना
 नर्सिंग स्कूल व कॉलेजो के लिये पुस्तके व अन्य शिक्षण सामग्री को उपलब्ध कराना |
 द्रश्य श्रव्य उपकरणो की आपूर्ति |
3. जलापूर्ति (Water Supply):-
 भूमिगत पानी के उपयोगिता को महत्व देना
 ग्रामीण क्षेत्रो में कुँए खोदना
4. पोषण (Nutrition):-
 पोषणीय अल्पता रोगो से बचाव
 कृषि सेवाएँ
 बच्चो को पूरक आहार, दूध पाउडर आदि की आपूर्ति
 स्कूल स्वास्थ्य सेवाएं
5. सामाजिक कल्याण (Social Welfare):-
 प्रजनन एवं शिशु स्वास्थ्य सेवाएँ
 प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल में योगदान
 बाल सुरक्षा परियोजना को सहायता
 मातृत्व परियोजनाओ को सहायता
7. डेनिडा (DANIDA) [Danish International Development Agency]
इसकी स्थापना 1978 में हुई | यह नेशनल blinness control प्रोग्राम के लिये चलाया गया |
8. यूरोपियन कमीशन (EC) [European Commission]
यूरोपियन कमीशन, यूरोपियन संगठन की कार्यकारी शाखा है | पूर्व में इसे ‘यूरोपियन सदस्यों का आयोग’ कहते थे | इसके अन्तर्गत कानून बनाना, निर्णयो को लागू संगठन के समझौता का पालन करना होता है | राष्ट्र एक आयोग नियुक्त करता है | सभी राष्ट्रो को आयुक्त (कमीशन) मिलकर संसद की परमिशन से की जाती है | यह कमीशन फण्ड भी उपलब्ध कराता है |
9. अंतर्राष्ट्रीय रेडक्रास [International Red Cross]
 1964 में swiss व्यापारी Henry dunanl ने इसकी स्थापना की |
 इसका मुख्यालय (Headquarter) जिनेवा में है |
 यह गैर सरकारी, गैर राजनैतिक अंतर्राष्ट्रीय मनावतावादी स्वैच्छिक संगठन है जो कि युद्ध और शांति के लिये समर्पित रहता है |
 इसके 90 से ज्यादा सदस्य है |
 इसक मुख्य उद्देश्य पीडितों की सेवा करना है |
 यह युद्ध महामारी, बाढ़, भूकंप व विभिन्न अपदाओ में लोगों की सहायता करता है |
 रेडक्रास द्वारा मातृक एवं बाल स्वास्थ्य व कल्याण सेवाएँ प्रदान करता है |
 1919 में रेडक्रास सोसायटी की लीग (League) का गठन किया गया |
10. कोलम्बो योजना (Colombo Plan)
कोलम्बो योजना का सूत्रपात सन् 1950 में राष्ट्रमंडल के विदेश मंत्रियो की एक बैठक के मध्य हुआ, जिसके अन्तर्गत दक्षिण पूर्व एशिया व दक्षिण के बिच, आर्थिक विकास सहयोग कार्यक्रम की रुपरेखा तैयार की गई है | वर्तमान में भारत सहित क्षेत्र के 20 देश तथा गैर क्षेत्रीय देश आस्ट्रेलिया, कनाडा, जापान, न्यूजीलैंड, ब्रिटेन एवं अमेरिका इसके सदस्य है | कोलम्बो प्लान के अन्तर्गत औद्योगिक व कृषि संसाधनो हेतु सहायता दी जाती है |
11. यूसेड (USAID) [United States Agency For International Development]
यूसेड एक तकनीकी सहयोगी मिशन है | यूसेड भारत में मलेरिया नियंत्रण, फाइलेरिया नियंत्रण, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रो, जनरल नर्सिंग, चिकित्सा शिक्षा, स्वास्थ्य क्षेत्रो एवं जलापूर्ति एवं स्वच्छता हेतु सहयोग प्रदान करना |
12. यूनेस्को (UNESCO) [United Nations Education, Scientific and Cultural Organization]
 इसकी स्थापना 16 नवम्बर 1945 को हुई |
 इसका मुख्यालय (Headqurter) पेरिस में है |
 यूनेस्को संयुक्त राष्ट्र की एक विशिष्ट एजेंसी है |
 यूनेस्को के 193 सदस्य राष्ट्र है तथा 6 राष्ट्र सह-सदस्य है |
 इसके 50 से अधिक क्षेत्रीय कार्यालय तथा कई विशिष्ट संस्थान एवं केन्द्र कार्यरत है |
• उद्देश्य (Purpose):-
 शिक्षा
 सामाजिक एवं मान विज्ञान
 संस्कृति
 प्राकृतिक विज्ञान
 संचार एवं सूचना
13. अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन (ILO) [International Lauor Organization]
इसकी स्थापना 1919 में हुई इसका मुख्यालय जिनेवा में है | इसके अंतर्गत सरे विश्व के कार्यरत मजदूरों को मेहनत और आवास की स्थितियो में सुधार करने हेतु है |
• उद्देश्य (Purpose):-
1. आर्थिक एवं सामाजिक स्थिरता को बढ़ाना
2. श्रमिको की आवास एवं कार्यस्थितियो में सुधार करना है |
14. केअर (CARE) [Co-operative for American Relief Everywhere]
 इसकी स्थापना सन् 1946 में हुई |
 केअर एक धर्मनिरपेक्ष, गैर सरकारी एवं लाभ निरपेक्ष संगठन है |
 इसका मुख्यालय (Headqurter) जिनेवा में है |
 भारत में केअर ने स्कूल के बच्चो को ‘मीड डे मील’ के रूप में भोजन उपलब्ध कराया |
 केअर चिकित्सा, शिक्षा, कृषि एवं व्यावसायिक प्रशिक्षण आदि के क्षेत्र में योगदान करता है |
15. रॉकफेलर [Rockfeller Foundation]
 इसकी स्थापना सन् 1913 में जोन. डी. रॉकफेलर द्वारा की गई |
 मानव कल्याण को बढ़ावा देने के उद्देश्य से इसकी स्थापना की गई थी |
 कोलकता में अखिल भारतीय स्वास्थ्य विज्ञान एवं स्वास्थ्य संस्थान तथा पूना में वाइरस अनुसंधान संस्थान की स्थापना में योगदान रहा है |
 प्रारंभ में फाउंडेशन की गतिविधियां जन स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा के क्षेत्र में अधिक रही, फिर मानव विज्ञान, सामाजिक विज्ञान एवं कृषि विज्ञान में रही |
 वर्तमान में फाउंडेशन कृषि विकास, परिवार नियोजन, ग्रामीण प्रशिक्षण, चिकित्सा शिक्षा आदि में सहायता प्रदान की |
16. फोर्ड फाउंडेशन [Ford Foundation]
फोर्ड फाउंडेशन, ग्रामीण स्वास्थ्य सेवाओ एवं परिवार नियोजन के क्षेत्र को समर्पित प्रतिष्ठान है | भारत में फाउंडेशन, जन स्वास्थ्य में अल्पकालीन प्रशिक्षण पाठ्यक्रम, आर.सी.ए. (RCA) परियोजना तथा परिवार नियोजन में सहायता प्रदान करता है | कोलकता में जलापूर्ति एवं अपवहन तंत्र (Sewerage System) एवं दिल्ली में राष्ट्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण संस्थान की स्थापना में भी फोर्ड फाउंडेशन द्वारा सहायता प्रदान की गई है |

कम्प्यूटर फंडामेंटल परिचय

कम्प्यूटर शब्द का उदय कम्प्यूट शब्द से हुआ जिसका अर्थ है गणना करना | अतः लोग कम्प्यूटर को गणना करने वाला उपकरण (Device) मानते हैं जो अत्यधिक तेज गति से अंकगणितीय कार्यों को कर सकता है |
वास्तव में, कम्प्यूटर के अविष्कार का मूल उद्देश्य तेज़ गणना करने वाली मशीन बनाने का था | हालांकि वर्तमान समय में 80% से अधिक गैर-गणितीय या गैर-संख्यात्मक प्रकृति का कार्य कम्प्यूटर्स से किया जाता है | अतः कम्प्यूटर को केवल गणना करने वाली मशीन के रूप में परिभाषित करने का अर्थ है इसके 80% से अधिक कार्यों को अनदेखा करना |
अधिक सही तरीके में हम कम्प्यूटर को ऐसे उपकरण के रूप में परिभाषित कर सकते है जो आँकड़ों पर संचालित होता है | डेटा कुछ भी हो सकता है, चाहे वह अभ्यार्थी का बायो-डेटा हो जिसमे नियुक्ति हेतु अभ्यार्थियों को छाँटने में कम्प्यूटर का प्रयोग किया जाता है; चाहे वह परीक्षा परिणाम बनाने के लिए विभिन्न विषयों में विद्यार्थियों द्वारा अर्जित अंक हो, हवाई यात्रा अथवा रेलवे आरक्षण हेतु प्रयुक्त विवरण (नाम, आयु, लिंग आदि) हो, अथवा वैज्ञानिक शोध समस्याओं में प्रयुक्त विभिन्न मानदण्ड हो, आदि |
अतः डेटा विभिन्न रूपों एवं आकारों में आता है जो कम्प्यूटर एप्लीकेशन के प्रकार पर निर्भर करता है | जब आप चाहें कम्प्यूटर डेटा को स्टोर, प्रोसेस एवं पुनः प्राप्त कर सकते है | वास्तविकता यह है कि कम्प्यूटर द्वारा प्रोसेस किया गया डेटा इतना मौलिक होता है कि अनेक लोगों ने इसे डेटा प्रोसेसर कहना शुरू कर दिया |
इसके लिए डेटा प्रोसेसर नाम अधिक उपयुक्त होगा क्योंकि आधुनिक कम्प्यूटर्स केवल बहुधा प्रयोग में आने वाले सेन्स (Sense) में ही कम्प्यूट नहीं करते, बल्कि अपने आसपास विचरित हो रहे डेटा के साथ अन्य कार्य भी करते है | उदाहरणार्थ, डेटा प्रोसेसर्स अनेक आगम स्रोतों से डेटा संग्रह करके उन सब को एक साथ मिलाते हैं और इच्छित क्रम (आरोह या अवरोह क्रम में-क्रमवार व्यवस्थित करने की प्रक्रिया) में छाँटते हैं और अंततः उन्हें मनमाने प्रारूप में मुद्रित कर सकते हैं | ध्यान देने योग्य बात यह है कि इन सभी कार्यों में बहुधा सेन्स में कोई भी अंकगणितीय कार्य नहीं है लेकिन उन कार्यों को करने के लिए कम्प्यूटर एक सर्वाधिक उपयुक्त उपकरण है |

विषय -सूची

I. : परिचय
II. : कम्प्यूटर की मूल संरचना
III. : कम्प्यूटर कोड्स
IV. : प्रोसेसर एवं मेमोरी
V. : इनपुट/आउटपुट डिवाइसेस
VI. : कम्प्यूटर सॉफ्टवेयर
VII. : कम्प्यूटर भाषाएँ
VIII. : इंटरनेट

नर्सिंग का परिचय
(Introduction of Nursing)
नर्सिंग की परिभाषा (Definitionof Nursing)

इंटरनेशनल कौंसिल ऑफ़ नर्सेस के अनुसार:- “नर्सिंग, नर्स द्वारा किया जाने वाला अनुपम कार्य है, अर्थात् व्यक्ति (स्वस्थ या अस्वस्थ) को उन क्रियाओं को संपन्न करने में सहायता करना है जो उसके स्वास्थ्य की पुर्नप्राप्ति (या शांतिपूर्ण मृत्यु) में योगदान देती है एवं जिन क्रियाओं को वह शक्ति, इच्छा अथवा ज्ञान होने पर स्वयं बगैर किसी सहायता में संपन्न करता है I”
According to International Counsil of Nurses(I.C.N.)– “Nursing is the unique Function of the Nurse, that is to assist the individual (sick or well) in the performance of those activities contributing to health or its recovery (or to a peaceful death) that the would perform unaided if he had the necessary strength, will or knowledge.”
अमेरिकन नर्सेस एसोसिएशन के अनुसार:- “नर्सिंग का पेशा एक सीधी सेवा है जिसका लक्ष्य व्यक्ति, परिवार एवं समुदाय की स्वस्थ अथवा रोग अवस्थाओं में स्वास्थ्य संबंधित आवश्यकताओं की पूर्ति करना एवं तदनुरूप अपने को ढ़ालना हैं I”
According to American Nurses Association (A.N.A.) – “Nursing practice is a direct service, goal directed and adaptable to the needs of the individual, the Family and community during health and illness.”
नर्सिंग का अर्थ (Meaning of Nursing):- नर्सिंग शब्द लेटिन (Latin) भाषा में न्यूट्रीशस (Nutricius) शब्द से उत्पन्न हुआ है जिसका अर्थ (meaning) है, पालन करना, पोषण करना, सुरक्षा करना, सहारा देने एवं जीवित रखना आदि I
नर्सिंग की प्रकृति (Nature of Nursing):- नर्सिंग को एक कला, विज्ञान एवं व्यवसाय कहा जाता है I नर्सिंग की प्रकृति नर्सिंग, स्वास्थ्य, वातावरण एवं व्यक्ति पर निर्भर होती है I नर्सिंग की प्रकृति का मुख्य उद्धेश्य होता है कि स्वास्थ्य की उन्नति करना, बीमारी में रोकथाम करना, स्वास्थ्य की पुर्नस्थापना एवं दर्द से मुक्ति करना आदि होता है I
नर्सिंग एक ऐसा व्यवसाय है जिसमें नर्स द्वारा व्यक्ति और परिवार एवं समुदाय की स्वास्थ्य संबंधी समस्यों का समाधान करती है I नर्स के कई कर्तव्य होते है, नर्स रोगी की देखभाल करती है एवं उसे उपचार एवं दवाईयाँ देती है I
नर्सिंग की प्रकृति रोगी की स्थिति व जरुरतो को समझना, रोगी की क्षमता बढ़ाना, रोगी की समस्याओं का समाधान करना, रोगी को स्वस्थ करना, उपचार करना एवं बीमारी का निदान करना सम्मिलित हैं I यह एक कला भी है

नर्सिंग के मूल सिद्धांत
(FANDAMENTAL OF NURSING)
I. नर्सिंग का परिचय (Introduction of Nursing)
II. रोगी / व्यक्ति की नर्सिंग देखभाल (Nursing Care of the Patient/client)
III. रोगी की मुख्य नर्सिंग देखभाल एवं आवश्यकता (Basic Nursing Care and Need
of the Patient)
IV. हाइजीन (Hygiene)
V. मरीज/रोगी का आंकलन (Assessment of Patient/Client)
VI. संक्रमण नियन्त्रण (Infection Control)
VII. उपचारार्थ नर्सिंग देखभाल और अपूतित प्रक्रिया (Therapeutic Nursing Care and Procedure Asepsis)
VIII. निदानिक भेषजगुण विज्ञान का परिचय (Introduction to Clinical Pharmacology)

प्राथमिक उपचार

परिभाषा
प्राथमिक उपचार किसी घायल या अचानक बीमार हुए व्यक्ति को अस्थाई एवं तुरंत दी गयी उपचार सहायता है जिसमें नियमित चिकित्सा देने से पहले वहाँ उस समय उपलब्ध सामग्री का उपयोग किया जाता है l
उद्देश्य
1. जीवन की रक्षा करना l
2. और अधिक क्षति से बचाना तथा स्थिति बिगड़ने से रोकना l
3. जहाँ तक संभव हो सके, पीड़ित की क्षमता बनाये रखने के लिए उसे ज्यादा से ज्यादा आरामदेह स्थिति में लाना l
4. घायल व्यक्ति को जल्दी से जल्दी विशिष्ट चिकित्सा सेवाओ के अंतर्गत लाना |

प्राथमिक उपचार के सिद्धान

1. प्राथमिक उपचार के लक्ष्य एवं उद्देश्य
परिभाषा
उद्देश्य
सिद्धान्त
जिम्मेदारियाँ
प्राथमिक उपचार के कार्यक्षेत्र
प्राथमिक उपचार के स्वर्णीय नियम
प्राथमिक उपचार दाता के लिए किट (दवा-पेटी)

2. मानव शरीर क्रिया विज्ञान एवं शरीर रचना विज्ञान
शरीर के उपभाग
शरीर गुहाएँ
केन्द्रीय तंत्रिका प्रणाली
उदरीय चतुष्पाद
शरीर प्रणालियाँ
रक्त संचार तंत्र
श्वसन तंत्र
रक्त में ऑक्सीजन कैसे संचारित होती है
आंत्र तंत्र
मूत्रीय तंत्र
तंत्रिका तंत्र
अस्थि संरचना (कंकाल तंत्र)
रक्त परिसंचरण

3. आपात् काल के दौरान प्राथमिक उपचारक को क्या करना चाहिए ?
स्थिति का मूल्यांकन
नैदानिक (जाँच)
रक्तचाप
सामान्य शिरोपाद परीक्षण

4. पुनरुज्जीवन तकनीकें
आधारभूत जीवन समर्थन
वायु मार्ग खोलना
मुखा-मुख श्वसन
कृत्रिम श्वसन प्रक्रिया
स्कैफर/होलगर नीलसन विधि
सिलवेस्टर उपाय
रक्त संचार
ह्रदय अवरोधन के कारण

5. स्वास्थ्य लाभ (रिकवरी) की स्थिति
स्वास्थ्य लाभ स्थिति
स्वास्थ्य लाभ स्थिति कैसे बनाएं

6. खून बहना या रक्तस्राव
रक्तस्राव के प्रकार
विशेष देखभाल
विशेष स्वरुप वाले रक्तस्राव

7. सदमा (शॉक)
प्रघात (सदमे) के प्रभाव
प्रघात (सदमे) के कारण
प्रघात की उच्चता को प्रभावित करने वाले घटक

8. घाव
परिभाषा
खुले घावों की आपत् कालिक देखभाल
बाहरी तत्वों के साथ घाव
विशेष घाव

9. मरहम पट्टी करना या पट्टी बाँधना
ड्रेसिंग (मरहम पट्टी) के प्रकार
ड्रेसिंग के सामान्य नियम
पट्टी के सामान्य नियम
बैंडेज के प्रकार

10. गलबाहीं (स्लिंग्स)
गलबाहीं के प्रकार

11. अस्थि भंग (फैक्चर)
अस्थि भंग के कारण
अस्थि भंग के प्रकार
अस्थि भंग के वर्गीकरण
खोपड़ी की अस्थि भंग
जबड़े एवं चहरे की अस्थि भंग
ऊपरी धड़ तथा अंग अस्थि भंग
निचला धड़ तथा अंग अस्थि भंग

आपात् स्थितियाँ

12. चिकित्सीय आपात् स्थितियाँ
श्वसन आपात् स्थिति
श्वसन अवरोध
पानी में डूबना
दम घुटना
गला दबाना, गला घोंटना, फाँसी लगाना
धुँआ अंतः श्वसन
विषैली गैसों द्वारा दम घुटना
ह्रदय तंत्रीय आपात् स्थितियाँ
ह्रदयशूल (हृदशूल)
आपत् स्थितियाँ
रोगी बेहोश तंत्रिका प्रणाली
शैशव की ऐंठन
मिरगी का दौरा
मिरगी की परिस्थिति में
हिस्टीरिया (उन्माद)
मधुमेही आपात् स्थितियाँ
इंसुलिन शॉक
यकृत (लीवर) आपात् स्थिति
गुर्दा (किडनी) आपात् स्थिति

13. विषाक्तीकरण या विषाक्तता
विष ग्रहण के रास्ते
सामान्य लक्षण एवं चिन्ह
अम्लीय विषाक्तता
क्षारीय विषाक्तता
सामान्य भारतीय पौधों के विष
नशीली दवाएं
धातुई विषाक्तता
आर्गेनिक रसायन विषाक्तता

14. एनाफालैक्टिक प्रघात (गंभीर एलर्जिक प्रतिक्रियाएँ)
कीट दंश
बिच्छू दंश
कुटकी, किलनी (चिचड़ी) तथा जोंक दंश
सर्पदंश
कुत्ता काटना

15. सड़क दुर्घटनाएं
तुरंत कार्यवाही

16. ताप का प्रभाव
तेज धूप से जलना
हिम अंधता तथा वेल्डर की चौंध
निम्न ताप
शीत दंश
ट्रेंच फूड (अति आद्र पाद)
शीत शोथ
तापघात या लू लगना

17. शल्य क्रियात्मक आपत् स्थितियाँ
स्नायु तन्तु
मांसपेशीय क्षति में प्राथमिक उपचार
जोड़ो की क्षति में प्राथमिक उपचार

18. क्षतियाँ (चोटें)
सिर की चोट
छाती की चोट
पेट के घाव
विस्फोट की क्षतियाँ
कुचलने की क्षतियाँ
जलना तथा झुलसना
बिजली से छातियाँ
शरीर में बाहरी तत्वों के लिए प्राथमिक उपचार

19. संभालना एवं ले जाना (परिवहन)
सामान्य सिद्धांत
परिवहन का उद्देश्य
हताहत (घायल) को उठाना
हताहत को पहिया कुर्सी पर ले जाना
स्ट्रेचर

सामान्य चिकित्सीय समस्याएं

20. सामान्य परेशानियाँ (बीमारियाँ)
सिरदर्द
आंधा सीसी (आधे सिर का) दर्द
कान दर्द
दांत दर्द
सामान्य जुकाम एवं खांसी
गर्दन में दर्द
पीठ दर्द
पेट दर्द
दस्त एवं पेचिश
यात्रा सम्बन्धी बीमारी

कुछ महत्वपूर्ण विषय

21. समिश्रित समस्याएं
जीवाणु नाशन या विसंक्रमण
एंटीसेप्टिक्स
जीवाणु नाशन
उग्र या उत्तेजित रोगी
आत्मघाती
यौन उत्पीड़न
मद्यपान-मतिभ्रम
नशीले पदार्थों का दुरूपयोग
धुम्रपान
गर्भस्राव (स्वतः गर्भपात)
आपतकालिक शिशु जन्म
नवजात शिशु की देखभाल
प्रतिरक्षा (टीकाकरण) का कार्यक्रम
कैंसर खतरनाक संकेत और बचाव
मृत्यू के संकेत

22. आहार एवं पोषण
प्रोटीन
वसा (फैट)
कार्बोहाइड्रेट्स
कैलोरी
विटामिन एवं खनिज तत्व
खनिज तत्व
कैल्शियम
फॉस्फोरस
लौह (आयरन) तत्व
नमक (सोडियम क्लोराइड)
जिंक (जस्ता)
ताँबा
कोबाल्ट
पानी
भोजन का ईंधन मूल्य (ऊर्जा क्षमता)
संतुलित आहार

23. आपदा एवं महाविपत्ति में एम्बुलैंस सेवा

24. खेलकूद की क्षतियाँ
घुटना
जम्पर्स नी
ओसगूड-स्क्लैटर्स सिंड्रोम
बरसिटिस
शिन पेन (पिंडली का दर्द)
टेनिस लेग
एचील्लेस टेनडिन्टिस
रेट्रोकैलकैनियल पेन
प्लांटर फास्सिटीज
छाले (ब्लीस्टर्स)
एथलीट्स फुट
फ्रोजेन शोल्डर
टेनिस इलबो
जिमनास्टर की कलाई में दर्द
अंगुली (सूजन) क्षति
आँख की क्षति
दाँत की क्षति
कान की क्षति
पानी के अन्दर कूदने की क्षति
मैक्सिलोफैसियल क्षति
नासिका क्षति
खेल-कूद की क्षतियों के उपचार प्रतिमान
अल्ट्रासोनिक (पराध्वनी) उपचार
फैराडिक उत्प्रेरण
हांथो से उपचार

सूक्ष्मजीव-विज्ञान (Microbiology)
Introduction

सूक्ष्मजीव-विज्ञान (Microbiology) वह विज्ञान है जिसमे बहुत ही छोटे-छोटे जीवों (Microbes or Micro-organisms) का अध्ययन किया जाता है जिन्हें नग्न नेत्रों द्वारा स्पष्टतः नहीं देखा जा सकता | इन्हें सूक्ष्मदर्शी (Microscope) के द्वारा ही देखा जा सकता है अतः सूक्ष्मदर्शी या माइक्रोस्कोप का अविष्कार होने के पश्चात् ही सूक्ष्मजीव-विज्ञान अस्तित्व में आया | लगभग 125 वर्ष पूर्व सूक्ष्मजीव विज्ञान रोगों का निदान करने के लिए साधन के रूप में प्रयुक्त नहीं होता था | उस काल के कुछ संक्रामक (संचारी) रोग 20वीं शताब्दी में ही नियंत्रित हुए है | चेचक, हैजा, तथा प्लेग आदि संक्रामक रोग पहले महामारी (Epidemic) का रूप धारण कर लेते थे और इनसे हजारों-लाखों लोगों की म्रत्यु हो जाती थी परन्तु अब सूक्ष्मदर्शीय परीक्षण द्वारा रोगोत्पादक सूक्ष्मजीव का पता लगाकर रोग का निदान करके उसे कुछ ही समय में नियंत्रित कर लिया जाता है जैसे की गुजरात में अचानक प्लेग फैल जाने पर उसे शीघ्र ही नियन्त्रित कर लिया गया |
0.1 मिमी. से छोटे परिणाम की वस्तुओं को हम बिना बाह्य आवर्धक लेन्स (Magnifying Lens) की सहायता के नहीं देख सकते तथा नग्न नेत्रों से 1 मिमी. से छोटी वस्तुओं के विभिन्न भागों को ठीक से नहीं पहचाना जा सकता अतः मोटे तौर पर 1 मिमी. से छोटे जीवों को सूक्ष्मजीव (Microbes or micro – organisms) कहा जाता है जिनका सूक्ष्मजीव-विज्ञान में अध्ययन किया जाता है | सूक्ष्मजीवों को देखने तथा उनका विस्तार से अध्ययन करने के लिए साधारण प्रकाश माइक्रोस्कोप का प्रयोग किया जाता है | कुछ सूक्ष्मजीव जैसे विषाणु (Virus) इतने छोटे होते हैं कि वो साधारण माइक्रोस्कोप द्वारा दिखयी नहीं देते | उन्हें देखने के लिए इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कोप का अविष्कार हुआ | साधारण या इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कोप द्वारा सूक्ष्मजीवों का अध्ययन करना सूक्ष्मजीव-विज्ञान (Microbiology) कहलाता है |

I : सूक्ष्मजीव विज्ञान का इतिहास (HistoryofMicrobiology)
 सूक्ष्मजीव विज्ञान का इतिहास (HistoryofMicrobiology)………
II : सूक्ष्मजीव (Micro-organism)
 जीवाणु की संरचना (StructureofBacteria)
 जीवाणु का अध्ययन (StudyofBacteria)
 जीवाणु की वृधि एवं पोषण (GrowthandNutritionofBacteria)
 मानव शरीर की सामान्य फ़्लोरा (NormalFloraofHumanBody)
 जीवाणु का वर्गीकरण व पहचान (ClassificationandIdentificationofBacteria)
 दैहिक जीवाणु विज्ञान (SystemicBacteriology)
 विषाणु (Virus)
 कवक (Fungi)
 परजीवी (Parasites)
III :संक्रमण (Infection)
 संक्रमण (Infection)
IV : प्रतिरक्षा (Immunity)
 प्रतिरक्षा (Immunity)
 एंटीजन, एंटीबॉडी व क्रियाएं (Antijen, Antibody,andReaction)
 अतिसंवेदनशीलता (Hypersensitivity)
V : निर्जीवाणुकरण एवं विसंक्रमण (SterilizationandDisinfection)
 निर्जीवाणुकरण एवं विसंक्रमण (SterilizationandDisinfection)
 प्रतिसूक्ष्मजीवी रसायन चिकित्सा पद्धति (AntimicrobialChemotherapy)
 जैव चिकित्सा अपशिष्ट प्रबंधन (BiomedicalWasteManagement)
VI : नैदानिक सूक्ष्मजीव विज्ञान (DiagnosticMicrobiology)
 नैदानिक सूक्ष्मजीव विज्ञान (DiagnosticMicrobiology)

एनाटॉमी एवं फिजियोलॉजी
(Introduction of Anatomy & Physiology)

फिजियोलॉजी (Physiology)
फिजियोलॉजी यानि शरीर-क्रिया विज्ञान, चिकित्सा विज्ञान की वह शाखा है जिसमें शरीर में सम्पन्न होने वाली क्रियाओं का अध्ययन किया जाता है I इस विज्ञान द्वारा मनुष्य के शरीर में विद्यमान भिन्न-भिन्न अवयवों (organs) एवं संस्थानों (systems) के कार्यों और उन कार्यों के होने के कारणों के साथ-साथ उनसे सम्बन्धित चिकित्सा विज्ञान (medical science) के नियमो का भी ज्ञान होता है I जैसे कान सुनने का कार्य करते हैं, आँखें देखने का कार्य करती हैं, पर फिजियोलॉजी सुनने तथा देखने के रहस्य का ज्ञान कराती है I ध्वनि कान के पर्दे पर किस प्रकार पहुँचती है ? प्रकाश की किरणें आँखों के लेंसों पर किस प्रकार पड़ती हैं ? वस्तुओं का चित्र आँखों के पर्दे पर कैसे बनता है ? तथा मनुष्य कैसे खाना खाता है ? उसका पाचन किस प्रकार होता है ? उसका आँतों की भित्तियों से अवशोषण किस प्रकार होता है ? अवशोषण के उपरान्त भोजन का स्वांगीकरण (assimilation) किस प्रकार होता है ? मनुष्य मल-मूत्र त्याग कैसे करता है ? शरीर में रक्त परिसंचरण कैसे होता है ? प्रजनन किस प्रकार होता है ? इत्यादि का ज्ञान हमें शरीर क्रिया विज्ञान यानि फिजियोलॉजी से होता है I
एनाटॉमी (Anatomy)
एनाटॉमीयानि शरीर-रचना विज्ञान चिकित्सा विज्ञान की वह शाखा है जिसमे मानव शरीर की रचना तथा विभिन्न अंगों के पारस्परिक सम्बन्धों का अध्यन किया जाता है I इसे अनेकों विशिष्ट शाखाओं में विभाजित किया जा सकता है, जिनमें से कुछ को आगे उल्लेखित किया जा रहा है I

मानव शरीर रचना एवं क्रिया विज्ञान
(Human Anatomy and Physiology)

I. एनाटॉमीकल शब्दावलीयों का परिचय, मानव शरीर का संगठन
(Introduction of Anatomical Terms, Organization of the Human body)
1. एनाटॉमीकल शब्दावलीयों का परिचय (Introduction of Anatomical Terms)
2. मानव शरीर का संगठन (Organization of the Human Body)
II. शारीरक संरचना का विस्तृत परिचय
(Introduction to the Detailed Structure of the Body)

3. कोशिका (The Cell)
4. ऊतक (Tissue)
5. झिल्लियाँ एवं ग्रन्थियाँ (Membranes &Glands)
III. रक्त (blood)
6. रक्त (Blood)
IV. परिसंचरण तन्त्र (The Circulatory System)
7. परिसंचरण तन्त्र (The Circulatory System)
8. शरीर की मुख्य रक्त वाहिनियाँ (Main Blood Vesseles of the Body)
V. लसीका तन्त्र (The Lymphatic System)
9. लसीका तन्त्र (The Lymphatic System)
VI. श्वसन तन्त्र (The Respiratory System)
10. श्वसन तन्त्र (The Respiratory System)
VII. पाचन तन्त्र (The Digestive System)
11. पाचन तन्त्र (The Digestive System)
12. पोषक तत्वों का परिचय (Introduction of Nutrients)
VIII. उत्सर्जन तन्त्र (Excretory ystem)
13. उत्सर्जन तन्त्र (Excretory ystem)
14. अध्यावर्णी तन्त्र (Integumentary System)
IX. अन्तः स्त्रावी तन्त्र (The Endocrine System)
15. अन्तः स्त्रावी तन्त्र (The Endocrine System)
X. जनन तन्त्र (The Reproductive System)
16. जनन तन्त्र (The Reproductive System)
XI. न्यूरोन (The neuron)
17. न्यूरोन (The neuron)
18. केन्द्रीय तन्त्रिका तन्त्र (The Central Nervous System)
19. स्वायत्त तन्त्रिका तन्त्र (Autonomic Nervous System)
XII. संवेदी अंग या ज्ञानेन्द्रियाँ (The Sense Organs)
20. संवेदी ज्ञानेन्द्रियाँ (The Sense Organs)
XIII. कंकाल (The Skeleton)
21. कंकाल (The Skeleton System)
22. अक्षीय कंकाल (The Axial Skeleton)
23. उपांगी कंकाल (The Appendicular skeleton)
24. सन्धियाँ (Joints)
XIV. पेशीय संस्थान (The Muscular System)
25. पेशीय संस्थान (The Muscular System)
26. रोग क्षमता या इम्युनिटी (Immunity)

फार्माकोलोजी विषय का महत्व
(SCOPE OF PHARMACOLOGY)

परिचय (INTRODUCTION):-

फार्माकोलॉजी चिकित्साशास्त्र (Medical Science) तथा भेषजिक विज्ञान की रीढ़ (Back Bone) है l इस विषय के अभाव में चिकित्सा विज्ञान मूक हो जायेगा l इस शास्त्र के विस्तृत विकास के परिणामस्वरूप ही चिकित्सा विज्ञान की प्रगति संभव हो सकी है l
फर्मोकोलोजी (Pharmacology):- ग्रीक भाषा के दो शब्दो के योग से बना है l (Pharmakon) फार्माकोन- औषधि तथा लोगस (Logus )- विज्ञान l अर्थात् फार्माकोलोजी औषधि का विज्ञान है l यह परिभाषा विषय की पूर्ण सार्थकता तथा पूरी व्याख्या नहीं करती, अतः एक परिष्कृत परिभाषा हम निम्न प्रकार से दे सकते है l “यह औषधि तथा जैव तन्त्र के माध्यम अन्तः क्रिया का विज्ञान है l”
इस प्रकार फार्माकोलोजी औषधि तथा जीव के अतः क्रिया में सम्बन्ध स्थापित करता है l इसमें औषधि के इतिहास, स्त्रोत, भौतिक व रासायनिक गुण, जैवरासायनिक (Bio-chemical), जैविक क्रिया (Physiology) तथा औषधीय (Medicinal) उपयोग के बारे में पूर्ण जानकारी प्राप्त होती है l
औषधि (Drug):- वह पदार्थ जो किसी बीमारी (Disease) की पहचान, निदान, बचाव इत्यादि के लिए प्रयुक्त किया जाये, औषधि कहलाता है l
बीमारी (Disease):- किसी जीव के जैविक-क्रिया (Physiological) में असन्तुलन के कारण उत्पन्न विकार (Abnormality) बीमारी कहलाती है l
चिकित्सको (Doctors) का प्रयास होता है कि वे जैविक-क्रिया में उत्पन्न विकार को ठीक से निदान (cure) कर सकें l इसके लिए वे औषधीय गुण वाले पदार्थो को देते हैं जो पीड़ित व्यक्ति की जैविक क्रिया को अनुकूल बनाकर विकार को दोष रहित कर निदान करते हैं l ऐसे पदार्थो को दवाएं (Medicines) कहते हैं l

विषय सूची (INDEX)

खण्ड-1. सामान्य फार्माकोलोजी
(GENERAL PHARMACOLOGY)

फार्माकोलोजी विषय का महत्व
(SCOPE OF PHARMACOLOGY)
औषधिय उपयोग के माध्यम
(ROUTES OF ADMINISTRATION OF DRUG)
औषधियों को अवशोषण, वितरण, चयापचय तथा उत्सर्जन
(ABSORPTION, DISTRIBUTION, METABOLISM AND ELIMINATION OF DRUGS)
औषधि क्रियाविधि सिद्धान्त
(MECHANISM OF DRUG ACTION)
औषधिय अन्तः क्रिया सिद्धान्त
(PRINCIPAL OF DRUG INTER-ACTIONS)
विष विज्ञान
(TOXICOLOGY)

खण्ड– 2. केंद्रीय तंत्रिका तन्त्र पर कार्य करने वाली औषधियाँ
(DRUGS ACTING ON CNS)

केंद्रीय तंत्रिका तन्त्र पर कार्य करने वाली औषधियाँ
(DRUGS ACTING ON THE CENTRAL NERVOUS SYSTEM)
सामान्य निश्चेतक औषधियाँ
(GENERAL ANAESTHETIC DRUGS)
उत्तेजनाहरी एवं अनिद्राहरी औषधियाँ
(ANXIOLYTIC AND HYPNOTIC DRUGS)
मनोविकारहारी औषधियाँ
(PSYCHOTROPIC DRUGS)
मिर्गी एवं मूर्छा रोधी औषधियाँ
(ANTI EPILEPTIC AND ANTICONVULSANT DRUGS)
मादक दर्द हारी औषधियाँ
(NARCOTIC ANALGESIC DRUGS)
केंद्रीय पेशी प्रस्फुटक औषधियाँ
(CENTRAL MUSCLE RELAXANT DRUGS)
केन्द्रीय तन्त्रिका तन्त्र उत्प्रेरक औषधियाँ
(CENTRAL NERVOUS SYSTEM STIMULANT DRUGS)
दर्दरोधी, ज्वररोधी एवं सुजन रोधी औषधियां
(ANALGESIC, ANTIPYRETICS AND ANTI INFLAMATORY DRUGS)
खण्ड- 3. स्थानीय निश्चेतक
(LOCAL ANAESTHETICS)

स्थानीय निश्चेतक
(LOCAL ANAESTHETICS)
खण्ड- 4. स्वचालित तन्त्रिका तन्त्र पर कार्यशील औषधियाँ
(DRUGS ACTING ON ANS)

स्वचालित तन्त्रिका तन्त्र
(AUTONOMIC NERVOUS SYSTEM)
एड्रीनर्जिक एवं एड्रीनर्जिक अवरुद्धक औषधियां
(ADRENERGIC AND ADRENERGIC BLOCKING DRUGS)
कोलिकनर्जिक औषधियाँ या उपअनुकम्पिक अनुश्रवणीय औषधियाँ
(CHOLINERGIC DRUGS OR PARASYMPATHOMIMETIC DRUGS)
कोलिनर्जिक अवरुद्धक औषधियाँ
(CHOLINERGIC BLOCKING DRUGS)
गुच्छिका उत्प्रेरक एवं अवरूधक औषधियाँ
(GANGLION STIMULATING AND BLOCKING DRUGS)
कंकालीय पेशी प्रस्फुटक औषधियाँ
(SKELETAL MUSCLE RELAXANT DRUGS)
पार्किन्सन के रोग की औषधियाँ
(DRUGS OF PARKINSONISM)
खण्ड- 5. श्वसन तन्त्र पर क्रियाशील औषधीयाँ
(DRUGS ACTING ON RESPIRATORY SYSTEM)

श्वसन तन्त्र पर क्रियाशील औषधीयाँ
(DRUGS ACTING ON RESPIRATORY SYSTEM)
खण्ड- 6. परिसंचरण तन्त्र पर क्रियाशील औषधियाँ
(DRUGS ACTING ON CARDIO-VASCULAR SYSTEM)

परिसंचरण तन्त्र पर क्रियाशील औषधियाँ
(DRUGS ACTING ON CARDIO-VASCULAR SYSTEM)
खण्ड- 7. रक्त तथा रक्त निर्माणकारी अंगो पर क्रियाशील औषधियाँ
(DRUGS ACTING ON BLOOD AND BLOOD FORMING ORGANS)

रक्त तथा रक्त निर्माणकारी अंगो पर क्रियाशील औषधियाँ
(DRUGS ACTING ON BLOOD AND BLOOD FORMING ORGANS)
खण्ड- 8. पाचन नाल पर क्रियाशील औषधियाँ
(DRUGS ACTING ON GIT)

पाचन नाल पर क्रियाशील औषधियाँ
(DRUGS ACTING ON GIT)
खण्ड- 9. आँखों पर क्रियाशील औषधियाँ
(DRUGS ACTING ON EYE)

आँखों पर क्रियाशील औषधियाँ
(DRUGS ACTING ON EYE)
खण्ड-10. मूत्रनाल पर क्रियाशील औषधियाँ
(DRUGS ACTING ON URINARYTRACT)

मूत्रनाल पर क्रियाशील औषधियाँ
(DRUGS ACTING ON URINARYTRACT)
खण्ड-11. हार्मोन एवं हार्मोन रोधी
(HORMONES AND HORMONE ANTAGONIST)

हार्मोन एवं हार्मोन रोधी औषधीयाँ
(HORMONES AND HORMONE ANTAGONIST DRUGS)
थायरायड एवं थायरायड रोधी औषधियाँ
(THYROID AND ANTITHYROID DRUGS)
अल्प ग्लूकोज रक्तताकारी औषधियाँ
(HYPOGLYCEMIC DURGS)
लैंगिक हॉर्मोन तथा मुखसेवी गर्भ निरोधक
(SEX HORMONE AND ORAL CONTRACEPTIVES)
अधिवृक्ककार्टिकल हार्मोन
(ADRENOCORTICAL HORMONES)
खण्ड-12. अन्य जैविक एमिन एवं पोलिपेप्टाइड
(OTHER BIOGENIC AMINE AND POLYPEPTIDE)

जैविक एमिन एवं पोलिपेप्टाइड
(BIOGENIC AMINE AND POLYPEPTIDES)
खण्ड-13. रासायनिक नैदानिक पदार्थ
(CHEMOTHERAPEUTIC AGENTS)

जीवाणु जन्य रोगों की रासायनिक नैदान्यता
(CHEMOTHERAPY OF MICROBIAL DISEASES)
सल्फोनामाइड तथा ट्राइमिथोप्रिम
(SULPHONAMIDES AND TRIMETHOPRIM)
पेनीसिलीन एवं अन्य एंटीबायोटिक
(PENICILLINS AND OTHER ANTIBIOTICS)
क्षय एवं रोगों की रासायनिक नैदान्यता
(CHEMOTHERAPY OF TUBERCULOSIS AND LEPROSY)
प्रोटोजोआ जन्य रोगों की रासायनिक नैदान्यता एवं अन्य परजीवी जन्य रोगों का निदान
(CHEMOTHERAPY OF PROTOZOAL AND PARASITIC DIESEASES)
अमीबीएसिस कि रासायनिक नैदान्यता
(CHEMOTHERAPY OF AMOEBIASIS)
 मलेरिया की रासायनिक नैदान्यता
(CHEMOTHERAPY OF MALARIA)
 कैन्सर की रासायनिक नैदान्यता
(CHEMOTHERAPY OF CANCER)
 एंटीसेप्टिक्स एवं डिसइनफेक्टेन्टस
(ANTISEPTICS AND DISINFECTANTS)

मनोविज्ञान : एक परिचय
(An Introduction to Psychology)
मनोविज्ञान का अर्थ (Meaning of Psychology)

मनोविज्ञान (Psychology) शब्द का सर्वप्रथम प्रयोग सन् 1590 में प्रसिद्ध चिंतक रूडोल्फ गोक्लेनियस किया गया l मनोविज्ञान (Psychology) शब्द लेटिन भाषा के शब्द ‘साइकोलोगस’ (Psychologus) से बना है l ‘साइकोलोगस’ दो शब्दों “साइको +लोगस” के मेल से बना शब्द है l ‘साइको’ का तात्पर्य आत्मा तथा ‘लोगस’ का तात्पर्य ज्ञान से है l यही ‘साइकोलोगस’ शब्द आगे चलकर मनोविज्ञान के रूप में प्रयोग किया जाने लगा l मनोविज्ञान को अंग्रेजी साइकोलोजी (Psychology) कहते है l ‘साइकोलोजी’ शब्द दो शब्दों ‘साइकी’ (Psyche) तथा ‘लोगस (Logus) से मिलकर बना है l ‘साइकी शब्द का अर्थ –आत्मा (Soul) है, जबकि ‘लोगस’ शब्द का अर्थ अध्ययन (Study) हैं l अतः अंग्रेजी शब्द ‘साइकोलोजी’ का शाब्दिक अर्थ है– आत्मा का अध्ययन l कई शताब्दियों पूर्व मनोविज्ञान को दर्शनशास्त्र की ही एक शाखा माना जाता था l उस समय मनोविज्ञान में मुख्य रूप से मन (Mind) तथा मानसिक क्रियाओं (Mental processes) का अध्ययन किया जाता था l मनोविज्ञान को अक स्वतन्त्र विषय के रूप में अभी हाल के कुछ वर्षों से पढ़ाया जाने लगा है l वर्तमान में मनोविज्ञान का जो स्वरूप हमारे सामने है, वह लम्बे समय के क्रमिक विकास का परिणाम है l

PSYCHOLOGY

Unit-I: Introduction
 मनोविज्ञान एक परिचय (An Introduction to Psychology)
Unit– II: Structure of the Mind
 मन की संरचना (Structure of Mind)
Unit- III: Psycology of Human Behavior
 मानव व्यवहार का जीव विज्ञान (Biololgy of Human Behaviour)
 व्यवहार में आयाम (Dynamics of Bihaviour)
 मानसिक स्वास्थ्य (Mental Health)
 मानसिक अस्वस्थता (Mental Illness)
 अभिप्रेरणा (Motivation)
 संवेदना (Sensation)
 संवेग (Emotion)
 तनाव (Stress)
 कुण्ठा (Frustration)
 समायोजन, द्धन्द्ध एवं रक्षायुक्तियाँ (Adjustment, Conflict and Defence Mechanism)
 अभिवृत्ति (Attitude)
 आदत (Habit)
 रुचि एवं अभिरुचि (Interest and Aptitude)
Unit– IV : Learning
 अधिगम (Learning)
 स्मृति व विस्मरण (Memory and Forgetting)
 भाषा एवं चिन्तन (Language and Thinking)
 तर्क अवन समस्या समाधान (Reasoning and Problem Solving)
 ध्यान (Attention)
 प्रत्यक्षीकरण (Perception)
Unit– V : Personality
 व्यक्तित्व (Personality)
 संकल्प और चरित्र (Will and Character)
Unit– VI : Intelligence
 बुद्धि (Intellingence)
 व्यक्ति भिन्नता (Individual Difference)

समाजशास्त्र : अर्थ, परिभाषा तथा विषय क्षेत्र
(Sociology : Meaning, Definition and Scope)

परिचय (Introduction) :
मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है और आदिकाल से ही समाज में रहता आ रहा है l महान यूनानी दार्शनिक और राजनीतिज्ञ अरस्तू (Aristotle) ने कहा है कि “मनुष्य स्वभावत- (By nature) एक सामाजिक प्राणी हैं” प्राकृतिक से तथा आवश्यक रूप से मनुष्य को जीवित रहने के लिए समाज की आवश्यकता होती है l सभी मनुष्यों को जीवित रहने (For survival) के लिए एक-दूसरे से अन्त: क्रिया (Interaction) करनी पड़ती है l
आदिकाल (Primitive period) में सर्वप्रथम मनुष्य ने अपने आस-पास की प्राकृतिक घटनाओं के अध्ययन में रुचि ली, तत्पश्चात् उसने स्वयं के बारे में तथा अपने समाज के बारे में सोचना प्रारम्भ किया l यही कारण है कि पहले प्राकृतिक विज्ञानों (Natural sciences) जैसे भौतिक विज्ञान, रसायन शास्त्र, वनस्पति-विज्ञानआदि का विकास हुआ और उसके बाद सामाजिक विज्ञानों (Social sciences) जैसे राजनीति विज्ञान, इतिहास, दर्शनशास्त्र, मानवशास्त्र तथा मनोविज्ञान आदि का अध्ययन प्रारम्भ हुआ l इन सामाजिक विज्ञानों के विकास क्रम में भी समाजशास्त्र का एक पृथक विषय (Separate discipline) के रूप में अध्ययन काफी बाद में शुरू हुआ l इससे पहले समाजशास्त्र का अध्ययन दर्शनशास्त्र के एक भाग के रूप में किया जाता था l पृथक विषय के रूप में समाजशास्त्र पिछ्ली शताब्दी में ही अस्तित्व में आया है l इस प्रकार समाजशास्त्र सभी सामाजिक विज्ञानों में एक नवीं विज्ञान है (Sociology is the youngest science in all social sciences) l समाजशात्र के द्धारा समाज (सामाजिक जीवन) व सामाजिक घटनाओं का अध्ययन किया जाता है |

SOCIOLOGY

Unit- I : Introduction
 समाजशास्त्र : अर्थ, परिभाषा तथा विषय क्षेत्र
(Sociology : Meaning, Definition and Scope)
 समाजशास्त्र : विषय– सामग्री, प्रकृति तथा अन्य समाजिक विज्ञानों के साथ सम्बन्ध (Sociology : Subject Matter, Nature, Importance and Relation with Other Social Science)
Unit- II : Indivedual
 व्यक्ति : वृद्धि विकास तथा वातावरण
(Individual : Growth, Development and Environment)
 व्यक्ति और समाज (Individual and Society)
Unit- III : The Family
 परिवार (Family)
 विवाह (Marriage)
Unit- IV : Society
 समाज (Society)
 सामाजिक समूह (Social Group)
 सामजिक परिवर्तन (Social Changes)
 सामजिक नितंत्रण (Social Control)
 सामजिक स्तरीकरण (Social Stratification)
 सामजिक प्रक्रियाएं (Social procedures)
 सामजिक समस्याएं –1 (Social Problem-1)
 सामजिक समस्याएं –2 (Social Problem-2)
 सामजिक विघटन एवं सामजिक अभिकरण
(Social Docial and Social Agency)
Unit- V : The Community
 समुदाय (Community)
 संस्कृति (Culture)
 अर्थव्यवस्था (Economy)

भोजन की महत्ता और इसके कार्य
(IMPORTENCEOFFOODANDITSFUNCTIONS)

भोजन जीवन की बुनियादी आवश्यकता है | गीता जैसी धार्मिक पुस्तक में भी इस मूल कथन की पुष्टि की गई है की प्राणियों की रचना भोजन से हुई | लगभग पिछले 50 वर्षों की खोज ने यह सिद्ध किया है कि मनुष्य के उत्तम स्वास्थ्य और शारीरिक कार्य कुशलता में वृद्धि के लिए योग्य पौष्टिक आचरण की आवश्यकता है | अन्य राष्ट्रीय एजेंसियों के अतिरिक्त, एफ०ए०ओ० (F.A.O.), विश्व स्वास्थ्य संघ (W.H.O.) तथा यूनिसेफ (UNICEF) जैसी अंतर्राष्ट्रीय संस्थाओं ने भी लोगों को अपने भोजन व स्वास्थ्य की बेहतरी के प्रति जागरूक कराने के लिए मुक्त भाव से धनराशि की व्यवस्था की है और मानवीय शक्तियों को भी इस दिशा में सक्रिय करने के लिए प्रयास किए हैं | विभिन्न क्षेत्रों के लिए भोजन की आवश्यकता को निर्धारित करने के लिए विश्व भर में निरन्तर भोजन संबंधी सर्वेक्षण भी किए जाते हैं | विभिन्न एजेंसियों द्वारा किए अध्ययनों के परिणाम इस बात की ओर संकेत करते हैं कि भिन्न-भिन्न क्षेत्रों के कमजोर वर्ग, जैसे कि शिशु, गर्भवती स्त्रियों और स्तनपान कराने वाली माताओं के भोजन में प्रोटीन, कैल्शियम तथा ए तथा बी-विटामिनों की विशेष रूप से कमी रहती है | अतः यदि हम उत्तम स्वास्थ्य तथा शारीरिक कार्यकुशलता के इच्छुक हैं | तो इन वर्गों के भोजन में सुधार की आवश्यकता है | इसलिए भोजन केवल पेट के भूख को शांत करने के लिए भीतर फेंके जाने वाला मात्र खाद्य-पदार्थ नहीं है |
प्रसिद्ध पोषण शास्त्री राजामल पी० देवदास ने भोजन की परिभाषा देते हुए यह कहा है कि भोजन कोई भी तरल, ठोस अथवा अर्ध-ठोस पदार्थ है जो जब खाया, पचाया और शरीर में रचाया जाता है तो तो शरीर को स्वस्थ रखता है |
According to an eminent nutritionist Rajamal P. Devadas food is definet as anything solid, liquid or semi solid which, when ingested (putting into the mouth), digested and assimilated, nourishes the body.

I. आहार के घटक एवम् उनके कार्य (Constituenonstituents of food and their Functions)
II. विभिन्न प्रकार के आहार (Different Types of food)
III. चयापचय (Metabolismsm)
IV. ऊर्जा की आवश्यकताएँ (Energy Requirements)
V. सन्तुलित आहार (Balanced Diet)
VI. पौषणिक विकार (Nutritional Disorders)
VII. मोटापा (Obesity)
VIII. न्यूनभार (Underweight)
IX. आहार स्वच्छता (Food Hygiene)
X. आहार का संदूषण (Contamination of food)
XI. अपमिश्रण या मिलावट (Adulteration)
XII. भोजन प्रत्यूर्जता या एलर्जी (Food Allergy)
XIII. पकाना और भोजन पर इसके प्रभाव (Cooking and its Effects on Food)
XIV. आहार का परिरक्षण एवम् भण्डारण (Preservation and Storaaqaaage ofdof food)
XV. पोषण शिक्षा (Nutrition Education)
XVI. ज्वर, राजयक्ष्मा या फुफ्फुसीय यक्ष्मा तथा दाह में आहार (Diet in Fevers, Tuberculosis and Burns)
XVII. जठरान्त्रीय पथ के रोगों में आहार (Diet in the Diseases of liver and Gastrointestinal tract)
XVIII. यकृत तथा पित्ताशय के रोगों में आहार (Diet in the Diseases of liver andGallbladder)
XIX. ह्रादवाहिकीय संस्थान के रोगों में आहार (Diet in the Diseases of thathe Cardiovascular System)
XX. मूत्रीय संस्थान के रोगों में आहार ((Diet in the Diseases of thathe Urinary System)
XXI. मधुमेह में आहार (Diet in Diabetes Mellitus)
XXII. वृद्धावस्था में पोषण (Geriatric Nutrition)
XXIII. गर्भवती स्त्रियों और दूध पिलाने वाली माताओं का आहार (Diet of the Pregnant Womem and Lactating Mothers)
XXIV. शिशुओं की पौषणिक आवश्यकताएँ (Nutritional Requirement of Infants)

परिवार नियोजन (Family planning)

Definition- Contraception is practice to prevent Pregnancy. Contraceptive is a tool for that. On regular practice of contraception, one to two child birth planning by choice, not by chance is possible by the couple.
(Syn- Family planning, Birth planning, Birth control)
परिवार नियोजन (Family planning)-
नियन्त्रित और नियोजित शिशु जन्म जिसका लक्ष्य परिवार को सीमित रखना है |
गर्भ निरोध (Contraceptive)-
सीमित परिवार के लिए एक नियोजित काल तक गर्भधारण रोकना पड़ता है | गर्भधारण रोकने की विधि को गर्भनिरोध यानि कॉन्ट्रासेप्शन (Contraception) कहते है | यह दो बच्चों के जन्मान्तर या अनचाहा गर्भ रोकने हेतु हो सकता है |
गर्भ निरोधक (Contraceptive)-
It is any medicine, process, apparatus or method that prevents conception.
कोई भी औषधि, क्रिया, उपकरण या विधि जिसमे गर्भाधान रुक जाता है, ‘गर्भनिरोधक’ की संज्ञा दी जाती है | इसी प्रकार से एक “आदर्श गर्भ निरोधक” वह है जो सुरक्षित, सुविधाजनक, प्रभावी, दम्पति को स्वीकार, सम्भोग क्रिया काल में दखल न दे, लम्बे समय तक प्रभावी, जिसमे बारम्बार उपयोग की आवश्यकता न हो और चिकित्सक की देखभाल की कम से कम आवश्यकता हो |

विषय परिचय (Introduction)
 गर्भनिरोध (Prevention of conception)
 गर्भनिरोध विधियाँ (Technique of conception)
 गर्भाशय के अन्दर उपकरण का निरोपण एवं निकालना
(Insertion and removal of intrauterine devices)

संचारी रोग(COMMUNICABLE DISEASES)

किसी स्रोत अथवा व्यक्ति से किसी रोगजनक कारक का स्वस्थ व्यक्ति के शरीर में स्थानांतरित हो जाना संचारण रोग (Communicable Diseases) कहा जाता है |
संचारण प्रत्यक्ष (Direct) तथा अप्रत्यक्ष (Indirect) दो प्रकार का होता है –
 प्रत्यक्ष संचारण (Directtrans mission)
 अप्रत्यक्ष संचारण (Indirecttrans mission)
प्रत्यक्ष संचारण (Directtrans mission)
यह प्रत्यक्ष सम्पर्क द्वारा जैसे स्पर्श द्वारा, काटने से, चुम्बन लेने से अथवा लैंगिक संसर्ग द्वारा होता है या लगभग 1 मीटर अथवा इससे भी कम दूरी पर विद्यमान व्यक्ति के छींकने, खाँसने, थूकने, बात करने तथा गाने आदि से बिन्दुकों (droplets) के स्वस्थ व्यक्ति के नेत्रश्लेष्मकला (Conjunctiva) पर अथवा नासिका या मुख की श्लेष्मिका कला पर छिटक जाने से होता है |
अप्रत्यक्ष संचारण (Indirecttrans mission)
 वाहन-वाहित संचारण (Vehicle-borne)
 रोगवाहक-वाहिता संचारण (Vector-borne transmission)
 वायुवाहित संचारण (Air-borne)

संचारी रोगों का वर्गीकरण
A. जीवाणुज रोग
1. विसूचिकाया हैजा(Cholera)
2. तीव्र जिवाणुजअतिसार (Acutebacterial Diarrhoea)
3. भोजन विषाक्तता (Food Poisoning)
4. टाइफायड ज्वर (Typhoid fever)
5. पैराटाइफायड ज्वर (Paratyphoid fever)
6. रोहिणी या डिफ्थीरिया (Diphtheria)
7. खाँसी (Bronchitis)
8. कूकर कास या काली खांसी (Whooping Cough)
9. राजयक्ष्मा या तपेदिक (Tuberculosis)
10. मैनिनजोकॉकल मैनिनजाइटिस (Meningococcal Meningitis)
11. टेटनस (Tetanus)
12. कुष्ठ रोग (Leprosy)
13. प्लेग (Plague)
B. विषाणुज रोग
1. ठण्ड लग जाना (प्रतिश्याय या सर्दी जुकाम)
2. इन्फ्लुएंजा (Influenza)
3. चेचक या बड़ी माता (Smallpox)
4. लघुमसूरिका या छोटी माता (Chicken-Pox)
5. खसरा (Measles)
6. कर्णमूलग्रन्थिशोथ या गदूद (Mumps)
7. डेंगू (Dengue)
8. बालुमक्षिका ज्वर (Sandfly fever)
9. विषाणु यकृतशोथ (Viralhepatitis)
10. अलक या जलातंक (Rabies)
11. पोलियोमायलाइटिस (Poliomyelitis)
12. रोहें (Trachoma)
13. विषाणु अतिसार (Viraldiarrhoea)
C. परजीवीय रोग
1. मलेरिया(Malaria)
2. आँव की पेचिश (Amoebicdysentery)
3. जियार्डियारुग्णता (Giardiasis)
4. कालाजार (Kalaazar)
5. फाइलेरिया रोग (Filariasis)
D. कृमि रोग
1. गोलकृमीरुग्णता (Ascariasis)
2. अंकुशकृमीरुग्णता (Ancylostomiasis)
3. सूत्रकृमीरुग्णता (OxyuriasisorEnterobiasis)
4. फीताकृमीरुग्णता (Taeniasis)
5. हाइडेटिड पुटी (Hydatidcyst)
E. रिकेट्सिया-रोग
1. टाइफस ज्वर (Typhusfever)
2. Scrubtyphus या Japaneseriverfever
3. रॉकी माउन्टेन स्पॉटेड ज्वर (Rockymountainspottedfever)
4. Q- ज्वर (Q-fever)
F. लैंगिक माध्यम द्वारा संचरित रोग (Sexuallytransmitteddiseases-STD)
1. उपदंश या सिफिलिस (Syphilis)
2. सूजाक (Gonorrhoea)
3. शैंकरॉयड या सॉफ्ट शैंकर (chancroidors of tchancre)
4. लिम्फोग्रेनुलोमा वेनेरियम (Lymphogranulomavenereum)
5. ट्राइकोमोनीयता (Trichomoniasis)
6. कैण्डीडियोसीस (Candidiasis)
7. एड्स (AIDS)
संचारी रोग (Communicable Disease)
 संचारी रोगों का परिचय (Introduction to Communicable Disease)
 संचारी रोग (Communicable Disease)
 संक्रामक बिमारियों में देखभाल (Care in Communicable Disease)
 महामारी/जानपदिक प्रबंधन (Epidemic Management)

सामुदायिक स्वास्थ्य विज्ञान
(Preventive and Social Medicine for Nurses)

INTRODUCTION:- रोगी की किसी व्यक्ति के द्वारा चिकित्सीय देख-भाल होना परिचर्या (Nursing) कहलाती है तथा रोगी की चिकित्सीय देख-भाल करने वाला व्यक्ति परिचारिका या नर्स (Nurse) कहलाता है जो सामन्यतः स्त्री होती है | चिकित्सिय देख-भाल का अभिप्रायः चिकित्सक द्वारा निर्धारित औषधियों को उपयुक्त समय पर रोगी को देना, इंजैक्शन लगाना, मरहम-पट्टी करना, रोगी से उसके हाल-चाल पूछना, शौच आदि के विषय में मालूम करना तथा तापमान एवं नाडी गति ज्ञात करके उन्हें नोट करना और रोगी के पहनने, ओढने-बिछाने के कपड़ों के गन्दा हो जाने पर उन्हें बदल देना आदि से है |
सन् 1948 ई० में अंतर्राष्ट्रीय मंच पर विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organisation–WHO) की स्थापना हुई जिसके अनुसार स्वास्थ्य की परिभाषा इस प्रकार है – “Health is a state ofcomplete physical, mental and social wellbeing and not merely the absence of disease or infirmity.” अर्थात “स्वास्थ्य केवल रोग या शारीरिक दौर्बल्य से रहित होना ही नहीं है वरन् शारीरिक, मानसिक तथा सामाजिक कुशलता की स्थिति है |” विश्व स्वास्थ्य संघठन ने अपने संविधान में लिखा है– “जाति, धर्म, राजनैतिक विचार-धारा, आर्थिक या सामाजिक स्थितियों के भेद-भाव के बिना स्वास्थ्य के उच्चतम प्राप्य स्तर का उपयोग करने का अधिकार मानव का एक मौलिक अधिकार है |” इसे कायम रखने के लिए चिकित्सा एवं परिचर्या की आवश्यकता होती है | विश्व स्वास्थ्य संगठन ने रोग को परिभाषित नहीं किया है |
राज्य या शासन अपने नागरिकों के स्वास्थ्य तथा कल्याण की रक्षा के प्रति अपनी जिम्मेदारी निभाता है | भारत के संविधान में प्रावधान है- “राज्य अपने लोगों के पोषण तथा जीवन के स्तर को ऊँचा उठाने एवं जन-स्वास्थ्य में सुधार लाने को अपने प्रमुख कर्तव्यों में मानेगा |”
• रोग
• रोग की धारणा (Conception of Disease)
 आधिदैविक सिद्धांत (Super natural theory)
 रोगाणु सिद्धांत(Germtheory)
 अनेक कारणों का सिद्धांत (Theory of multiple causes)
• वातावरणीय स्वच्छता (Environmental Sanitation)
• जन-स्वास्थ्य (Public Health)
• आधुनिक चिकित्सा
 रोगनाशक चिकित्सा (Curative Treatment)
 रोग-निरोधक चिकित्सा (Preventive Treatment)
 औषधियों द्वारा
 टीकाकरण
 रोग निदान द्वारा
 पोषण द्वारा
I. विषय प्रवेश (Introduction)
II. अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य अभिकरण (International Health Agencies)
III. स्वास्थ्य योजना (Health planning)
IV. जन-स्वास्थ्य प्रशासन (Public Health Administration)
V. सामुदायिक स्वास्थ्य सेवायें (Community Health Services)
VI. जन-स्वास्थ्य और कानून (Public Health and Laws)
VII. परिचर्या और सामाजिक विज्ञान (Nursing and Social Science)
VIII. पर्यावरण एवं स्वास्थ्य (Environment and Health)
IX. संचारी रोग (Communicable diseases)
X. असंचारी रोग (Non-Communicable diseases)
XI. पोषण एवं स्वास्थ्य (Nutrition and Health)
XII. व्यक्तिगत स्वास्थ्य (Personal Health)
XIII. व्यावसायिक स्वास्थ्य (Occupation Health)
XIV. स्वास्थ्य-शिक्षा (Health Education)
XV. मातृ एवं बाल स्वास्थ्य सेवायें (Maternal and Child Health Services)
XVI. जनसांख्यिकी, स्वास्थ्य सांख्यिकी एवं परिवार नियोजन
(Demography, Health Statistics and Family Planning)

प्रसूति विज्ञान का परिचय
INTRODUCTIONTOMIDWIFERY

प्रसूति विद्या (Midwifery)
“मिडवाइफरी एक स्वास्थ्य विज्ञान एवं स्वास्थ्य सम्बन्धी पेशा है, जिसका सरोकार/संबंध महिला के यौन व प्रजनन स्वास्थ्य के अतिरिक्त गर्भावस्था, प्रसव एवं सूतिकावस्था (नवजात शिशु की देखभाल सहित) के अध्ययन व प्रबन्धन से है |
प्रसूति विज्ञान (Obstetrics)
1. “प्रसूति विज्ञान चिकित्सा विज्ञान की वह शाखा है जो की गर्भावस्था, प्रसव एवं सूतिकावस्था के अध्ययन से सम्बद्ध है |”
2. “चिकित्सा विज्ञान की वह शाखा जिसके अन्तर्गत गर्भावस्था, प्रसव व सूतिकावस्था का अध्ययन किया जाता है, प्रसूति विज्ञान कहलाती है |”
प्रसव सम्बन्धी नर्सिंग (ObstetricsNursing)
“नर्सिंग की गर्भावस्था, प्रसव व सूतिकावस्था के अध्ययन व देखभाल सम्बन्धी शाखा ‘Obstetrical Nursing’ कहलाती है |

Unit – I : Introduction
 प्रसूति विज्ञान का परिचय (Introduction to Midwifery)
Unit – II : Reproductive System
 मादा प्रजनन तंत्र (Female Reproductive System)
 स्त्री की श्रोणी (Female Pelvis)
Unit – III : Embryology and Fetal Development
 जनन की क्रिया विधि (Mechanism of reproduction)
 भ्रूणीय विकास (Fetal Development)
 अपरा व इसकी झिल्लियाँ (PlacentaandIt’s Membranes)
 भ्रूणीय रक्तपरिसंचरण एवं कपाल (Fetal Circulation and Skull)
Unit – IV : Normal Pregnancy and its management
 गर्भधारणदेखभाल व आनुवंशिक परामर्श
(Preconception Care & Genetic Counseling)
 गर्भावस्था (Pregnancy)
 प्रसवपूर्व देखभाल (Antenatal Care) (ANC)
 गर्भावस्था में होने बवाले लघु विकार (Minor Disorders in Pregnancy)
Unit – V : Normal Labour and its management
 प्रसव (Labour)
 प्रसव की प्रथम अवस्था (First Stage of Labour)
 प्रसव की द्वितीय अवस्था (Second Stage of Labour)
 प्रसव की तृतीय अवस्था (Third Stage of Labour)
 प्रसव की चतुर्थ अवस्था (Fourth Stage of Labour)
Unit – VI : Management of Newborn
 सामान्य नवजात देखभाल (Normal Newborn Care)
 नवजात के मामूली रोग (Minor Disorders of Newborn)
Unit – VII : Management of Normal Puerperium)
 सूतिकावस्था (Puerperium)
 सूतिकावस्था के सूक्ष्म विकार (Minor Ailments of Puerperium)
Unit – VIII : Management of Complications During Pregnancy)
 गर्भावस्था में रक्तस्राव (Bleeding in Pregnancy)
 गर्भावस्था प्रेरित उच्च रक्तचाप (Pregnancy Induced Hypertension)
 गर्भावस्था की अन्य जटिलताएँ (Other complications of pregnancy)
 खतरे वाली गर्भावस्था (High Risk pregnancy)
Unit – IX : Managements of High Risk Labour
 जोखीमयुक्त प्रसव (High Risk Labour)
 प्रसव सम्बन्धी आपातकालीन परिस्थितियाँ (Obstetric Emergencies)
 प्रसव की तृतीय अवस्था की जटिलताएँ
(Complications of Third Stage of Labour)
Unit – X : Management of Complications of Puerperuim
 सूतिकावस्था की जटिलताएँ (Complications of Puerperium)
Unit – XI : High Risk and Sick Newborn
 बीमार नवजात शिशु (Sick Newborn)
 खतरे वाले नवजात (High Rick Newborn)
Unit – XII : Obstetric Operations
 प्रसव सम्बन्धी शल्यक्रिया (Obstetric Surgery)
 चिकित्सकीय गर्भसमापन (Medical Termination of Pregnancy)(MTP)
Unit – XIII : Drugs Used in Obstetrics
 प्रसूति विज्ञान में प्रयुक्त औषधियाँ (Drugs Used in Obstetrics)
Unit – XIV : Ethical and Legal Aspects Related to Midwifery
 प्रसूति विद्या सम्बन्धी आचार एवं क़ानूनी पहलू
(Ethical and Legal Aspects Related to Midwifery)

प्रशिक्षार्थी हेतु निर्देश :

1. प्रशिक्षार्थियो को नामांकन के समय हाईस्कूल , इंटरमीडिएट अंकपत्र (कोर्स के अनुसार), पहचान पत्र, की स्वप्रमाणित छायाप्रति जमा करे ।
2. चार पासपोर्ट साइज का रंगीन फोटो जमा करना होगा |
3. नामांकित अभ्यार्थियो को संस्थान के दिशा निर्देशो का पालन करने हेतु नोटरी सपथ पत्र देना आवश्यक होगा |
4. रजिस्ट्रेशन कराए हुए अभ्यार्थियों का नामांकन हेतु संस्थान द्वारा प्रवेश परीक्षा भी कराया जा सकता है या संस्थान के अधिकृत फील्ड आफिसर की केवल सहमति के उपरांत नामांकन किया जा सकता है ।
5. अभ्यर्थी द्वारा किसी भी प्रकार की गलत सूचना देने पर वह स्वयं जिम्मेदार होंगे एवम् संस्थान उनका नामांकन निरस्त कर देगा ।
6. नामांकित प्रशिक्षार्थियो को संस्थान द्वारा प्रत्येक माह नोट्स बनाकर संस्थान द्वारा दिया जाएगा |
7. अभ्यर्थियों का प्रशिक्षण पाठ्क्रम पूर्णतया हिंदी माध्यम में है ।
8. संस्थान में प्रशिक्षार्थी द्वारा दिए गए मोबाईल न. एवं ईमेल आईडी पर संस्थान द्वारा सूचना भेजी जाएगी ।
9. यदि अभ्यर्थी किसी भी कारण से अपना रजिस्टर मोबाईल न0 बदलता है तो उसकी लिखित सूचना संस्थान को देना व नया मोबाईल न0 संस्थान में रजिस्टर्ड कराना अनिवार्य होगा ।
10. अभ्यार्थी द्वारा किन्ही कारणों से तीन माह तक फीस जमा न करने पर अभ्यार्थी का नामांकन स्वतः निरस्त हो जायेगा ।
11. संस्थान द्वारा दिए गए दिशा निर्देशो का पालन न करने पर अभ्यार्थी का नामांकन रद्द किया जा सकता है ।

नोट – अभ्यार्थी के नामांकन, प्रशिक्षण, परीक्षा आदि हेतु पूर्ण अधिकार संस्थान के पास सुरक्षित
है समय-समय पर आवश्यकता के अनुसार संस्थान के द्वारा दिशा निर्देशो को बदल जा
सकता है ।

आदेशानुसार
उपप्रबंधक
ग्रामीण स्वास्थ्य प्रेरक प्रशिक्षण संस्थान,
लखनऊ (उत्तर-प्रदेश)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *